Monday, August 20, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

चोरी के मामले में पकड़े जाने पर देना पड़ता है 5 बोतल ‘हरिया’, जानें कौन सी है यह जगह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चोरी के मामले में पकड़े जाने पर देना पड़ता है 5 बोतल ‘हरिया’, जानें कौन सी है यह जगह

रांची। आमतौर पर चोरी के मामले में पकड़े जाने पर पुलिस और न्यायालय से सजा का प्रावधान है। ऐसे मामलों में आरोप सिद्ध होने पर जुर्माना या जेल की सजा दी जाी है लेकिन क्या आपको पता है कि झारखंड के तोपचांची इलाके में रहने वाले आदिवासियों का ऐसे मामले में सजा के तौर पर ‘हरिया’ (स्थानीय शराब) देना पड़ता है। बताया जा रहा है कि धनबाद जिले में पड़ने वाले इस इलाके के आदिवासी कभी भी अपने समुदायों में होने वाले ऐसे मामलों के लिए पुलिस के पास नहीं जाते हैं।

गौरतलब है कि इन आदिवासियों का कहना है कि अपराध की प्रकृति के आधार पर ही सजा का ऐलान किया जाता है। आदिवासियों का कहना है कि मामूली चोरी के लिए 3 बोतल हरिया जुर्माने के तौर पर देना पड़ता है वहीं बड़ी चोरी के लिए 5 बोतल हरिया के जुर्माने का प्रावधान रखा गया है। बड़ी बात यह है कि इन लोगों में से कोई भी सजा या जुर्माने का विरोध नहीं करता है। 

ये भी पढ़ें - पति ने अपनाया पत्नी से छुटकारा पाने का अनोखा उपाय, रखा वट सावित्री का व्रत


यहां बता दें कि अभी हाल ही में इस समुदाय के एक शख्स को चोरी के सिलसिले में 3 मुर्गियां और 2 बोतल हरिया का जुर्माना देना पड़ा था। बताया जा रहा है कि इस इलाके में रहने वाले आदिवासी समुदाय में सालों से यह प्रथा चली आ रही है और कोई भी इसका विरोध नहीं करता है। 

 

Todays Beets: