Saturday, December 15, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

चोरी के मामले में पकड़े जाने पर देना पड़ता है 5 बोतल ‘हरिया’, जानें कौन सी है यह जगह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चोरी के मामले में पकड़े जाने पर देना पड़ता है 5 बोतल ‘हरिया’, जानें कौन सी है यह जगह

रांची। आमतौर पर चोरी के मामले में पकड़े जाने पर पुलिस और न्यायालय से सजा का प्रावधान है। ऐसे मामलों में आरोप सिद्ध होने पर जुर्माना या जेल की सजा दी जाी है लेकिन क्या आपको पता है कि झारखंड के तोपचांची इलाके में रहने वाले आदिवासियों का ऐसे मामले में सजा के तौर पर ‘हरिया’ (स्थानीय शराब) देना पड़ता है। बताया जा रहा है कि धनबाद जिले में पड़ने वाले इस इलाके के आदिवासी कभी भी अपने समुदायों में होने वाले ऐसे मामलों के लिए पुलिस के पास नहीं जाते हैं।

गौरतलब है कि इन आदिवासियों का कहना है कि अपराध की प्रकृति के आधार पर ही सजा का ऐलान किया जाता है। आदिवासियों का कहना है कि मामूली चोरी के लिए 3 बोतल हरिया जुर्माने के तौर पर देना पड़ता है वहीं बड़ी चोरी के लिए 5 बोतल हरिया के जुर्माने का प्रावधान रखा गया है। बड़ी बात यह है कि इन लोगों में से कोई भी सजा या जुर्माने का विरोध नहीं करता है। 

ये भी पढ़ें - पति ने अपनाया पत्नी से छुटकारा पाने का अनोखा उपाय, रखा वट सावित्री का व्रत


यहां बता दें कि अभी हाल ही में इस समुदाय के एक शख्स को चोरी के सिलसिले में 3 मुर्गियां और 2 बोतल हरिया का जुर्माना देना पड़ा था। बताया जा रहा है कि इस इलाके में रहने वाले आदिवासी समुदाय में सालों से यह प्रथा चली आ रही है और कोई भी इसका विरोध नहीं करता है। 

 

Todays Beets: