Tuesday, June 19, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

पहाड़ियों पर बर्फ में दबा मिला लापता दंपति का शव, 75 साल से दबा हुआ था बर्फ में

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पहाड़ियों पर बर्फ में दबा मिला लापता दंपति का शव, 75 साल से दबा हुआ था बर्फ में

स्विट्जरलैंड की सेनफ्लूरोन पहाड़ियों पर बर्फ में दबे एक जोड़े का शव मिला है। दरअसल, पिछले सप्ताह जब एक व्यक्ति वहां से गुजर रहा था, तो उसे एक ठोकर लगी। इस व्यक्ति ने नीचे देखा, तो वहां दो शव पड़े हुए थे। उसने पुलिस को सूचना दी। इस मामले में स्विस पुलिस का कहना है कि यह शव 75 साल से यहां दबे हुए थे।

ये भी पढ़ें— गांव में दहशत का माहौल, एक घर से सपेरे की बीन सुनकर निकले 46 सांप

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि यह जोड़ा 1942 से यहां बर्फ में दबा हुआ था। भारी मात्रा में बर्फ में दबे होने के कारण दोनों (पुरुष और महिला) का शव सुरक्षित हैं। पुलिस ने बताया कि इनके शव शुक्रवार को मिले। शव के पास से बैकपैक, डिब्बे, किताब, घड़ी और जूते भी बरामद किए गए। सभी सामानों को जांच के लिए फॉरेंसिंक लैब भेज दिया गया है।

ये भी पढ़ें— फेसबुक की मदद से महिला ने चोर के घर से वापस ली अपनी साइकिल

हालांकि पुलिस ने अभी तक इस दंपति की पहचान जाहिर नहीं की है। स्विस पुलिस का कहना है, अभी तक शवों का डीएनए टेस्‍ट नहीं हुआ, इसलिए इनकी पहचान करना मुश्किल है। डीएनए रिपोर्ट आने के बाद ही हम इनकी पहचान बता पाएंगे।


ये भी पढ़ें— यह दुनिया का ऐसा बच्चा जिसका जेंडर नहीं है किसी को पता, जानें क्या मामला

स्‍थानीय मीडिया का कहना है कि ये शव घड़ी निर्माता मार्सिलिन डुमोलिन और उनकी स्कूल टीचर पत्नी फ्रांसिन के हैं, जो 1942 में लापता हो गए थे। दोनों अपने मवेशियों को चराने के लिए पहाड़ियों की ओर गए थे, लेकिन वापस नहीं लौटे। इन दोनों के 7 बच्चे हैं। इनके बच्चे लंबे समय से अपने माता-पिता का पता लगाने की कोशिश में जुटे थे कि आखिर उनके साथ क्या हुआ। पुलिस ने कहा कि अगर ये शव डुमोलिन दंपति की होगी तब उनके परिवार वालों को उनका शव सौंप दिया जाएगा। वहीं, शव का दावा करने वाले डुमोलिन दंपति के बेटे ले मटीन के कहा कि हमें इतने समय के बाद अपने माता-पिता के बारे में कम से कम पता तो चला।

 

 

Todays Beets: