Thursday, December 14, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

ताईवान आइए और उठाइए गड़ासा मसाज का लुत्फ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ताईवान आइए और उठाइए गड़ासा मसाज का लुत्फ

गड़ासे का नाम सुनते ही एक आम आदमी के मन में सब्जी या मांस काटने वाले औजार का चित्र उभर जाता है। अगर आपसे ऐसा कहा जाए कि गड़ासे से मसाज किया जाता है तो यह सुनकर आप हैरान जरूर होंगे लेकिन यह बिल्कुल सही है। अभी तक तो आपने हाथों से, पैरों से  या हाथी के पैरों से मसाज के बारे में सुना होगा। ताईवान में इस तरह की मसाज दी जाती है। किस तरह से की जाती है गड़ासे से मसाज इसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। 

ताईवान में है गड़ासा मसाज सेंटर

गौरतलब है कि ताईवान के ताईपे शहर में एक नाइफ एजुकेशन सेंटर है। हसियो मेई फांग जो की इस सेंटर के मालिक हैं। उनके अनुसार यह एक प्राचीन कला है। यहां काफी तेज धार वाले ब्लेड से लोगों की मसाज की जाती है। इसके लिये गड़ासे को साफ भी किया जाता है। एक बार किसी को मसाज देने के बाद उस गड़ासे को केमिकल से साफ किया जाता है। फांग ने बताया कि ये प्रचीन गड़ासे से मसाज करने की कला मूल रूप से चीन की है। चीन में कई सौ साल पहले नाइफ से मसाज की जाती थी। 


सैंकड़ों साल पुरानी कला

फांग का कहना है कि यह 2500 वर्षों से भी ज्यादा पुरानी कला है। इस कला में पहले पूरे शरीर को कपड़ों से ढक दिया जाता है। उसके बाद गड़ासे से मसाज की जाती है। यहां तक कि चेहरे की मसाज भी गड़ासे से ही की जाती है। आपको बता दें कि इस मसाज में दो गड़ासों का प्रयोग किया जाता है। फांग ने बताया कि इस तरह की स्पेशल थेरेपी देने के लिये साधारण किचेन नाइफ का प्रयोग नहीं किया जाता है। थेरेपी के लिए जिस नाइफ का प्रयोग किया जाता है वह स्पेशल मसाज देने के लिये ही तैयार किये जाते हैं। एक युवक ने बताया कि वह जब इस मासाज पार्लर में पहुंचा तो पहले तो वो बहुत डर गया। उसने बताया कि हम लोग गड़ासे का प्रयोग मीट काटने के लिये करते हैं और यहां पर मसाज देने के लिये गड़ासे का प्रयोग किया जा रहा है। मसाज लेने वाली एक महिला ने बताया कि जब मैने नाइफ मसाज ली तो मुझे लगा कि मेरे शरीर से बिजली दौड़ रही है।

Todays Beets: