Monday, October 23, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

ताईवान आइए और उठाइए गड़ासा मसाज का लुत्फ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ताईवान आइए और उठाइए गड़ासा मसाज का लुत्फ

गड़ासे का नाम सुनते ही एक आम आदमी के मन में सब्जी या मांस काटने वाले औजार का चित्र उभर जाता है। अगर आपसे ऐसा कहा जाए कि गड़ासे से मसाज किया जाता है तो यह सुनकर आप हैरान जरूर होंगे लेकिन यह बिल्कुल सही है। अभी तक तो आपने हाथों से, पैरों से  या हाथी के पैरों से मसाज के बारे में सुना होगा। ताईवान में इस तरह की मसाज दी जाती है। किस तरह से की जाती है गड़ासे से मसाज इसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। 

ताईवान में है गड़ासा मसाज सेंटर

गौरतलब है कि ताईवान के ताईपे शहर में एक नाइफ एजुकेशन सेंटर है। हसियो मेई फांग जो की इस सेंटर के मालिक हैं। उनके अनुसार यह एक प्राचीन कला है। यहां काफी तेज धार वाले ब्लेड से लोगों की मसाज की जाती है। इसके लिये गड़ासे को साफ भी किया जाता है। एक बार किसी को मसाज देने के बाद उस गड़ासे को केमिकल से साफ किया जाता है। फांग ने बताया कि ये प्रचीन गड़ासे से मसाज करने की कला मूल रूप से चीन की है। चीन में कई सौ साल पहले नाइफ से मसाज की जाती थी। 


सैंकड़ों साल पुरानी कला

फांग का कहना है कि यह 2500 वर्षों से भी ज्यादा पुरानी कला है। इस कला में पहले पूरे शरीर को कपड़ों से ढक दिया जाता है। उसके बाद गड़ासे से मसाज की जाती है। यहां तक कि चेहरे की मसाज भी गड़ासे से ही की जाती है। आपको बता दें कि इस मसाज में दो गड़ासों का प्रयोग किया जाता है। फांग ने बताया कि इस तरह की स्पेशल थेरेपी देने के लिये साधारण किचेन नाइफ का प्रयोग नहीं किया जाता है। थेरेपी के लिए जिस नाइफ का प्रयोग किया जाता है वह स्पेशल मसाज देने के लिये ही तैयार किये जाते हैं। एक युवक ने बताया कि वह जब इस मासाज पार्लर में पहुंचा तो पहले तो वो बहुत डर गया। उसने बताया कि हम लोग गड़ासे का प्रयोग मीट काटने के लिये करते हैं और यहां पर मसाज देने के लिये गड़ासे का प्रयोग किया जा रहा है। मसाज लेने वाली एक महिला ने बताया कि जब मैने नाइफ मसाज ली तो मुझे लगा कि मेरे शरीर से बिजली दौड़ रही है।

Todays Beets: