Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

भारतीय मूल की दीप्ति ने तैयार किए स्मार्ट मोजे, पैरों की चोट में मिलेगी राहत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारतीय मूल की दीप्ति ने तैयार किए स्मार्ट मोजे, पैरों की चोट में मिलेगी राहत

नई दिल्ली। नई चीजों के आविष्कार की प्रेरणा किसी को कहां से मिल जाए इसके बारे में कहा नहीं जा सकता है। आॅस्ट्रेलिया में शोध कर रही भारतीय मूल की छात्रा दीप्ति अग्रवाल ने अपने पिता के पैरों में लगी चोट से प्रेरणा लेते हुए एक ऐसे मोजे का आविष्कार किया जिससे इंसानों के पैरों में लगी चोट के बारे में जानकारी देगी। उन्होंने इस मोजे का नाम ‘सोफी’ दिया है। बताया जा रहा है कि इस मोजे में तीन सेंसर लगे हुए हैं इसके पहनने के बाद शरीर के वजन के आधार पर मामूली से मामूली चोटों की जानकारी फिजियोथैरेपिस्ट को मिल सकती है। 

गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलिया में स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग में पीएचडी स्कॉलर दीप्ति अग्रवाल ने ‘स्मार्ट मोजे’ विकसित किए हैं। भारतीय मूल की दीप्ती अग्रवाल ने बताया कि वह कुछ ऐसा बनाना चाहती थी जिससे सुदूरवर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों को मामूली चोटों के इलाज के लिए शहरों का रुख न करना पड़े। बता दें कि दीप्ती को स्मार्ट मोजे बनाने का विचार अपने पिता के पैरों में लगी चोट के बाद आया जिसकी वजह से वह इलाज के लिए शहर जाने से असमर्थ हो गए थे। 


ये भी पढ़ें - जापान में 19.84 लाख के बिके दो खरबूजे, जानिए क्या है इन दो खरबूजों का सच

यहां बता दें कि दीप्ति ने इस मोजे का नाम सोफी रखा है। इसमें एक तकनीक के जरिए छोटा उपकरण लगाया गया है जो रोगी के पैरों के निचले हिस्से की रीयल टाइम जानकारी प्रदान कराता है। उन्होंने कहा कि इन मोजों की मदद फिजियोथेरेपिस्ट को आसानी होगी। इसका कारण है कि इसकी मदद से पैरों के तलवे की बारीक से चोट एवं अवस्थता का पता चल सकेगा। वह कुछ ऐसा बनाना चाहती थीं जिससे की पैरों के तलवे के बारे में भी सूक्ष्म से सूक्ष्म बीमारी का पता चल सके ताकि इससे आग चलकर मरीजों का बेहतर तरीके से इलाज हो सके। 

Todays Beets: