Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

बिना हाथ-पैर के बावजूद बेहतरीन फोटोग्राफी करता है अचमद, माॅडलों की लगी लाइन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिना हाथ-पैर के बावजूद बेहतरीन फोटोग्राफी करता है अचमद, माॅडलों की लगी लाइन

हाथ और पैर न होने के बावजूद बेहतरीन फोटोग्राफी करने वाले इस नौजवान के बारे में सुनकर आप भी दंग रह जाएंगे। इंडोनेशिया के अचमद जुल्कारनैन एक ऐसे शख्स हैं जिसके पास आज तस्वीरें खिंचवाने वाली महिला माॅडल की लाइन लगी हुई है लेकिन उनके पास समय नहीं है। अचमद किस तरह से इतनी बढ़िया और खूबसूरत फोटो खींच पाते हैं इसके बारे में हम आपको बता रहे हैं। 

अपनी कंपनी बनाई

गौरतलब है कि 24 वर्षीय अचमद जुल्कारनैन को बचपन से ही हाथ-पैर नहीं है लेकिन वह पेशे से फोटोग्राफर हैं। वह अपने चेहरे और बिना हाथों वाली भुजाओं के सहारे से कैमरे को पकड़ते है। खास बात यह है कि इस तरह से पकड़ने पर उनके कैमरे की बैलेंसिंग बराबर बनी रहती है। इतना ही नहीं अचमद ने डीजेडओईएल के नाम से अपनी कंपनी भी बना रखी है। वह एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए एक कस्टम डिजायन वाली डीजल गाड़ी का उपयोग करते हैं। 


दिव्यांगों के लिए बने मिसाल

आपको बता दें कि अचमद का मानना है कि कोई उन्हें अपंग या विकलांग समझकर सहानुभूति न दे इसी वजह से उन्होंने फोटोग्राफी को चुना। बड़ी बात है कि हाथ नहीं होने के बावजूद वह लैपटाॅप पर फोटो को एडिट भी करते हैं। आज जुल्कारनैन दुनयिा के तमाम दिव्यांग लोगों के लिए एक मिसाल बन चुके हैं।  अचमद को देखकर लोगों को लगता है कि दुनिया में कुछ भी करना असंभव नहीं है। अचमद खुद भी काफी फैशन कांशियस हैं।

 

Todays Beets: