Saturday, November 17, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

असम की हेमप्रभा ने पूरी श्रीमदभागवद गीता को उतारा कपड़े पर, अंग्रेजी अनुवाद भी बुने

अंग्वाल न्यूज डेस्क
असम की हेमप्रभा ने पूरी श्रीमदभागवद गीता को उतारा कपड़े पर, अंग्रेजी अनुवाद भी बुने

नई दिल्ली। असम की हेमप्रभा चुटिया ने कपड़ों पर बुनाई को एक नई ऊंचाई दी है। हेमप्रभा ने श्रीमदभागवत गीता के संस्कृत के 700 पदों को रेशम के एक कपड़े पर उतार दिया है। मूल रूप से डिब्रुगढ़ के रहने वाली हेमप्रभा चुटिया ने भगवद गीता के एक अध्याय के अंग्रेजी अनुवाद को भी कपड़े पर उतारा है। इससे पहले उन्होंने शंकरदेव के गुणमाला और महादेव के नाम घोसा को रेशम के कपड़े पर बुना था। हेमप्रभा को इसके लिए कई पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है। 

गौरतलब है कि असम की रहने वाली 62 साल की इस महिला ने पिछले 20 महीनों से श्रीमदभागवदगीता के पदों को रेशम के कपड़े पर बुनने का काम कर रही थी। आपको बता दें कि हेमप्रभा ने जिस रेशमी कपड़े पर इन 700 पदों को बुना है उसकी लंबाई 150 फीट है और चौड़ाई 2 फीट है। हेमप्रभा ने इस काम को पूरा करने के बाद कहा कि हिंदू संस्कृति का हिस्सा होने की वजह से इन पदों को कपड़े पर बुनकर उतारने की उनकी इच्छा थी जो अब पूरी हुई है। 


ये भी पढ़ें - महिला द्वारा हाथ मिलाने से इंकार करने पर नौकरी न देना पड़ा महंगा, लगा 3 लाख रुपये का जुर्माना

आपको बता दें कि हेमप्रभा ने इस बात भी खुशी जताई कि उनके काम को म्यूजियम में संरक्षित रखा जाएगा। इससे पहले भी उन्होंने कई अन्य संस्कृत के पदों को कपड़े पर बुनकर उतारा है और सरकार की ओर से कई पुरस्कारों से नवाजा गया है जिसमें बाकुल बोन अवॉर्ड, आई कनकलता अवॉर्ड और राज्य सरकार का हैंडलूम एंड टेक्सटाइल अवॉर्ड शामिल हैं। 

Todays Beets: