Wednesday, February 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

बच्चे के शव साथ माता-पिता को भी मुर्दाघर में बंद कर चला गया अस्पताल कर्मी

अंग्वाल संवाददाता
बच्चे के शव साथ माता-पिता को भी मुर्दाघर में बंद कर चला गया अस्पताल कर्मी

जयपुर।  हाल ही में राजस्थान में एक सरकारी अस्पताल का कर्मचारी बच्चे के शव के साथ उसके माता-पिता को भी मुर्दाघर में बंद करके सोने चला गया। यह मामला राजस्थान के प्रतापगढ़ स्थित सरकारी अस्पताल का है, जहां घायलावस्था में अस्पताल में भर्ती हुए बच्चे की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। बाद में अस्पताल का वॉर्ड ब्वाय बच्चे के शव के साथ मुर्दाघर में उसके माता रकमी और पिता रमेश को भी बंद करके चला गया।

मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी (प्रतापगढ़) राधेश्याम कच्छावा ने इस पूरे घटना पर बताया कि वॉर्ड ब्याय रामप्रसाद धोबी को निलंबित करके उसे मौजूदा पद से हटाकर पदस्थापन का आदेश दे दिया गया है। निलंबन के साथ ही धोबी को जयपुर स्थित मुख्यालय में हाजिर होने के आदेश दिए गए हैं।

यह भी पढ़े - जानें इस सनकी बाप के बारे में, महज फेसबुक पर लाइक्स के लिए जिगर के टुकड़े को 15वीं मंजिल से लटकाया 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि मृत बच्चे की इलाज के दौरान मौत होने पर बच्चे के शव को मुर्दाघर में ले जाया गया। वॉर्ड ब्याय की तरफ से बच्चे का शव मुर्दाघर में रखने के दौरान उसके माता पिता रकमी और रमेश भी साथ थे। दोनों ने शव के पास ही रहने की जिद पकड़ ली थी। उन्होंने बताया कि वार्ड ब्याय ने लापरवाही बरतते हुए बच्चे के पिता और मां को शव के पास ही छोड़कर बाहर से ताला लगाया और अस्पताल आ गया ।


अधिकारी ने कहा कि शव के साथ माता-पिता के अंदर होने की सूचना मिलते ही मुर्दाघर का ताला खोलकर दंपति को बाहर निकाला गया। दंपति करीब साढ़े तीन घंटे तक मुर्दाघर में अपने बच्चे के शव के साथ बंद रहे।

यह भी पढ़े - शादी में बीफ परोसने की जिद कर रहे थे लड़के वाले, लड़की वालों ने तोड़ दिया रिश्ता

उन्होंने बताया कि पुलिस अगले दिन सुबह अस्पताल पहुंची। परिजनों ने पुलिस से शव का पोस्टमार्टम नहीं करवाने का अनुरोध किया जिसे पुलिस ने स्वीकार करके शव अन्तिम संस्कार के लिए परिजनों को सौंप दिया। उन्होंने कहा कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग इस पूरे मामले की जांच कर रहा हैं।

Todays Beets: