Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

स्पैम कॉल से परेशान दुनिया, इस कारण परेशान देशों की सूची में भी पहले नंबर पर है भारत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
स्पैम कॉल से परेशान दुनिया, इस कारण परेशान देशों की सूची में भी पहले नंबर पर है भारत

नई दिल्ली।

बैंकों से कर्ज और कार्ड की पेशकश से लेकर ग्राहकों को फोन कनेक्शन बदलने के लिये सस्ते डेटा की जानकारी देने वाली फोन कॉलों से आप भी परेशान होंगे। दिन में कई फोन ऐसे आते हैं, जो आपको काम में तो डिस्टर्ब करते ही हैं, कई बार आपका मूड भी अपसेट हो जाता है। इस तरह की कॉल से केवल आप और हम ही नहीं बल्कि दुनिया भर के लोग परेशान हैं, लेकिन इनमें भी भारतीय सबसे आगे हैं। एक सर्वे के अनुसार, स्पैम कॉल से परेशान देशों की सूची में भारत पहले नंबर पर है।

ये भी पढ़ें— अचंभित : वेंटिलेटर पर रखी गई मृत महिला ने 123 दिन बाद दिया जुड़वा बच्चों को जन्म

यह सर्वे फोन डायरेक्टरी ऐप ट्रूकॉलर ने कराया है। सर्वेक्षण के अनुसार इस तरह की अवांछित या स्पैम कॉल से प्रभावित देशों की सूची में भारत अमेरिका, ब्राजील, ब्रिटेन जैसे देशों से आगे है। इसके अनुसार भारत में औसतन हर मोबाइल धारक को महीने में 22 से अधिक अवांछित कॉल आती हैं। वहीं अमेरिका व ब्राजील में मोबाइल ग्राहकों को हर महीने में औसतन 20 अवांछित कॉल आती हैं। इन कॉल्स में ज्यादातर कॉल बैंकों की  ओर से कार्ड या कर्ज देने, दूसरी मोबाइल कंपनियों के प्लान से संबंधित होती हैं।


ये भी पढ़ें— ऐसा क्या हुआ कि परिजनों ने अपनी बेटी को 20 साल एक अंधेरे कमरे में 'कैद' कर दिया

सर्वे के अनुसार, भारत में दूरसंचार कंपनियां और दूरसंचार मार्केटिंग कंपनियां कुल अवांछित कॉल में क्रमश: 54 प्रतिशत और 13 प्रतिशत हिस्सेदारी निभाती हैं।

ये भी पढ़ें— प्रतियोगिता जीतने के चक्कर में खा लिया ज्यादा चिली बर्गर, फट गया पेट

 

Todays Beets: