Friday, October 20, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

ऐसा अनोखा गांव जहां हर ग्रामीण आराम के लिए नहीं बल्कि मजबूरी में हर समय सोने को होता है मजबूर...जानिए अनोखा सच

अंग्वाल संवाददाता
ऐसा अनोखा गांव जहां हर ग्रामीण आराम के लिए नहीं बल्कि मजबूरी में हर समय सोने को होता है मजबूर...जानिए अनोखा सच

सोना आखिर किसे पंसद नहीं होता है। कई लोगों के लिए यह दुनिया का सबसे आसानदायक और मजेदार काम है। थके होने पर मौका मिलते ही आप-हम सबसे पहले सोने के लिए चल देते हैं, लेकिन सोना भी एक सीमा में अच्छा लगता है। अगर किसी से कहां जाए कि वह सोता रहे तो सोचो उसकी स्थिति कैसी होगी। दरअसल, उत्तरी कजाकिस्तान के कलाची नाम के एक गांव में ज्यातादर लोग अक्सर सोते ही रहते हैं। इस गांव में सोने की आदत एक बीमारी का रूप ले चुकी है। यहां अपनी मर्जी से या आराम करने के लिए कोई नहीं सोते बल्कि अपने आप ही उन्हें नींद आ जाती है। डॉक्टर ने जांच के बाद में इसे गांव में महामारी घोषित कर दिया है।

यह भी पढ़े- अल्ट्रासाउंड में बच्चे की जगह दिखी ऐसी चीज मां-बाप बनने वाले दंपत्ति के उड़ गए होश

डॉक्टर भी इस बात से हैरान हैं कि आखिर किस चीज के कारण यहां के लोग हर समय सोते रहते हैं। बताया जा रहा है कि पिछले चार सालों से लगातार गांव में धीरे -धीरे करके यह बीमारी अधिकतर लोगों को लग गई है। चिंता की बात तो यह कि इस बीमारी से बच्चे ज्यादा प्रभावित हो रहे है। रिपोर्ट के मुताबिक, लोगों को सोने के बाद होश नहीं रहता है। लोगों को डर रहता है कि कहीं वह सोने के बाद कभी उठे ही नहीं तो। साथ ही इस बीमारी से लोगों की याद्दाश्त भी कमजोर होती जा रही है।


यह भी पढ़े- पहाड़ियों पर बर्फ में दबा मिला लापता दंपति का शव, 75 साल से दबा हुआ था बर्फ में

डॉक्टर के अनुसार, सभी लोगों की जांच के बाद उन्होंने पाया कि किसी को भी कोई वायरस या फिर बैक्टीरिया इंफेक्शन नहीं है। इस जगह के पानी मिट्टी में भी ऐसा कोई रसायन नहीं पाया गया है, जो इस बीमारी की वजह हो लेकिन बताया जा रहा है कि गांव से कुछ मील दूरी पर रूस की यूरेनियम की खान है। इस खान से निकलने वाला धुआं आस-पास की हवा को जहरीला बनाता है और उड़ते हुए धुआँ इस गांव में जा पहुंचता है। तभी लोग टॉक्सीन वाली हवा को सूंघने से ऐसी हालात में चले जाते हैं। इस खान से निकलने वाला धुआं इस जगह पर 16 फीसदी से भी ज्यादा प्रभावित है।

Todays Beets: