Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

आखिर क्यों फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद तोड़ दी जाती है पेन की निब, जानें वजह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिर क्यों फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद तोड़ दी जाती है पेन की निब, जानें वजह

नई दिल्ली। अभी तक आपने फिल्मों में यह देखा होगा कि अदालत से किसी कैदी या अपराधी को फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद जज पेन की निब को तोड़ देते हैं। आपको पता है कि ऐसा क्यों किया जाता है, नहीं, तो चलिए हम आपको बता देते हैं कि ‘हैंग टिल डेथ’ कहने के बाद पेन की निब क्यों तोड़ी जाती है। सबसे पहले आपको यह बता दें कि जज द्वारा ऐसा करने का प्रचलन सिर्फ भारत में ही है। 

गौरतलब है कि भारतीय कानून में अपराधी के दंड की सबसे बड़ी सजा फांसी है। रेयर ऑफ रेयरेस्ट केस में ही मुजरिम को फांसी की सजा सुनाए जाने का प्रावधान है। जिस भी व्यक्ति का अपराध जघन्य अपराध की श्रेणी में आता हो, उसे ही मौत की सजा सुनाई जा सकती है। ऐसे में अगर जज के द्वारा एक बार फांसी की सजा सुना दी जाती है तो उसे बदला नहीं जा सकता है, हां ऐसा करने का अधिकार सिर्फ राष्ट्रपति का होता है। राष्ट्रपति अपने विवेक और ज्ञान के आधार पर अपराधी को क्षमा भी कर सकते हैं।  

ये भी पढ़ें - अमेरिका के एक रेस्टोरेंट ने तैयार किया वैलेंटाइल डे स्पेशल बर्गर, लाख रुपये चुकानी होगी कीमत


यही वजह है कि जिस पेन से मौत लिखा जाता है उसकी निब तोड़ दी जाती है। यह भी माना जाता है कि अगर फैसले के बाद पेन की निब तोड़ी जा चुकी है, तो इसके बाद खुद उस जज को भी यह अधिकार नहीं होता है की वो दोबारा उस फैसले को बदलने के बारे में सोच सके। पेन की निब टूट जाने के बाद इस फैसले पर दोबारा विचार भी नहीं किया जा सकता।

 

Todays Beets: