Wednesday, September 26, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

अनोखी ममी को लेकर वैज्ञानिकों में छिड़ी बहस, कुछ बोले- एलियन तो कुछ ने मानव जैसा जीव बताया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अनोखी ममी को लेकर वैज्ञानिकों में छिड़ी बहस, कुछ बोले- एलियन तो कुछ ने मानव जैसा जीव बताया

नई दिल्ली । दुनिया के लिए एलियन हमेशा से एक बड़ा रहस्य बने हुए हैं। कई दशकों से उनके पृथ्वी पर आने के संकेत भी मिले हैं, कई लोगों ने उन्हें देखने का दावा भी किया है लेकिन विज्ञान के इतनी तरक्की करने के बाद भी इनके रहस्य से पूरी तरह पर्दा आज भी नहीं उठ पाया है। अमूमन देश दुनिया में एलियन से जुड़ी खबरें आती ही रहती हैं। इस बार ऐसी एक खबर पेरु से है । असल में पेरू के एक रीसर्चर स्टीव मेरा ने एक खोज में 3 अंगुली वाली  'ममी' को खोजने के बाद उसका डीएनए और कार्बन टेस्ट किया है। 1800 साल पुरानी यह ममी देखने में इंसानों जैसी है, लेकिन इसके हाथ और पांव में तीन-तीन अंगुलियां हैं। इतना ही नहीं उसका सिर आम इंसानों के काफी लंबा है। अब इस ममी को लेकर इस विषय के जानकारों में कई तरह के तर्क दिए जा रहे हैं।

 

भारतीय मूल की दीप्ति ने तैयार किए स्मार्ट मोजे, पैरों की चोट में मिलेगी राहत

रीसर्चर स्टीव ने दावा किया है कि पेरू में खोजी गई एक रहस्यमय 3 अंगुली वाली ममी वास्तव में मानव प्रजाति की एक नई खोज हो सकती है । पेरू में  खोजकर्ताओ द्वारा ममी के नए DNA और कार्बन डेटिंग परीक्षण से ऐसी कई बातें सामने आई हैं। वेबसाइट द सन में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, ममी 1,800 वर्ष पुरानी हो सकती है और 98.5 प्रतिशत प्राइमेट - इंसानों के समान हैं  और 1.5% अलग  । ब्रिटिश रीसर्चर स्टीव इस रिसर्च के अंत तक जाकर इस बारे में जानकारी जुटाने में सफल हुए हैं। इस रिसर्च को लेकर उनका कहना है कि इस शोध से हमारी इतिहास की पुस्तकों का इतिहास हमेशा के लिए बदल सकता है।

 


रशियन नेशनल रिसर्च यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर konstantin korotkov का कहना है की यह इंसानों जैसे दिखते हैं पर इंसान नहीं हैं । प्रोफेसर का कहना है कि इनके कान soft tissue से बने होते हैं । टोमोग्राफिक प्रशिक्षण से यह मालूम पड़ा कि ममी की हड्डियों का ढांचा इंसानों के शारीरिक ढांचे की भांति होता है।  इनके डीएनए से पता चला कि ममी के और इंसानों के 23 जोड़ों में क्रोमोसोम्स एक जैसे हैं, पर तब भी प्रोफेसर का कहना है की यह इंसान नहीं माने जा सकते । ममी के क्रोमोसोम्स में हर क्रोमोसोम्स  'y' क्रोमोसम के साथ पाया गया है, जो यह बताता है कि  यह एक लड़की का हो सकता है । प्रोफेसर का कहना है कि  यह 5000 साल पुरानी ममी को देखकर पता चलता है कि यह एक रेप्टीलियन शरीर की भांति है जिसका मतलब  है कि इनकी भी ( स्पाइनल ) रीड की हड्डी होती है जैसी इंसानी शरीर में होती है परन्तु यह सिद्धांत झूठा माना गया इसी कारण इनके x-rays प्रेस कांफ्रेंस में दिखाए जाते थे, जिससे यह सिद्धांत झूठे ना माने जाएं। 

जापान में 19.84 लाख के बिके दो खरबूजे, जानिए क्या है इन दो खरबूजों का सच

 

वहीं एक दूसरे  वैज्ञानिक ने यह भी कहा कि यह दूसरे ओर्गनिसम का है और मानव प्रजाति जैसा इसमें कुछ नहीं है।  डॉक्टर स्टीव की रिपोर्ट और शोध को कोई सच नहीं मानता लेकिन उन्होंने दावा किया है कि इसके  बहुत सारे सबूत हैं  जिससे यह मानव प्रजाति में एक नई खोज कही जा सकती है।  उन्होंने कहा है कि वह अभी भी उस पर अपना परीक्षण कर रहे हैं  परन्तु अब तक कुछ साबित नहीं हुआ है कि वह नकली है।  ऐसी बहुत सी चीजें हैं  जिनसे वो असली साबित होते हैं । 

वहीं एक अन्य मीडिया हाउस ने ऐसा दावा भी किया है कि यह अनोखी ममी एक ऐसी गुफा से मिली, जिसके बारे में किसी को पता नहीं था। कुछ लोग इस गुफा से संबंधित जानकारी होने पर उसकी खोज में जुटे थे, इस खोज के दौरान ही इन लोगों को यह ममी मिली । कुछ लोगों का ये भी कहना है कि  ये एक मॉडल का अधूरा हिस्सा लगता है । एक छोटी दस्तावेजी को पढ़ने से पता चला कि ये कोई बीमारी नहीं है,  यह इंसानी रूप में दिखने  वाले एक दूसरे जीव हैं ।

Todays Beets: