Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

अलवर में महिला ने दिया 'प्लास्टिक बेबी' को जन्म , बच्चा देख स्टॉफ के उड़ गए होश

अंग्वाल संवाददाता
अलवर में महिला ने दिया

अलवर । राजस्थान के भरतपुर जिले के सीकरी निवासी एक महिला ने गत सोमवार अलवर के एक अस्पताल में दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त बच्चे को जन्म दिया है। इस बीमारी से ग्रस्त बच्चों को कोलाडियन बेबी कहा जाता है, जो 3 लाख में से एक बच्चे हो होती है। इस बीमारी से ग्रस्त बच्चा एक प्लास्टिक जैसी परत के भीतर होता है, जिसे हटाने से शिशु के शरीर से खून निकलता है। बहरहाल, प्रसव पीड़ा होने के दौरान जैसे ही अस्पताल स्टॉफ ने इस महिला के नवजात को देखा तो वह खबरा गए। बच्चे के शरीर पर प्लास्टिक जैसी परत को जैसे ही हटाया गया, शिशु के शऱीर से खून निकलने लगा, हालांकि डॉक्टरों ने बाद में बच्चे को बचा लिया।

जानकारी के मुताबिक , भरतपुर निवासी सिमरन को प्रसव पीड़ा होने पर असवर के साहिल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। प्रसव के दौरान नवजात ने जन्म लिया तो वह एक प्लास्टिक जैसी एक परत के भीतर था, उसे जैसे ही हटाया गया शिशु के शरीर से खून बहने लगा। यह सब देख अस्पताल का स्टाफ घबरा गया। 


आनन फानन में नवजात को जयपुर के जेके लोन अस्पताल में रेफर किया गया। डॉक्टरों ने बताया कि लाखों बच्चों में एक ऐसा केस होता है, जिसे प्लास्टिक बेबी कहा जाता है। अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि यह बच्चा कोलोडियोंन बीमारी से ग्रस्त है। य़ह एक प्रकार की आनुवांशिक बीमारी होती है जो समय से साथ ही ठीक होती है। बहरहाल, अस्पताल के डॉक्टरों ने बच्चे का इलाज शुरू कर दिया है, फिलहाल बच्चा खतरे से बाहर है।    

 

Todays Beets: