Monday, March 18, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

अलवर में महिला ने दिया 'प्लास्टिक बेबी' को जन्म , बच्चा देख स्टॉफ के उड़ गए होश

अंग्वाल संवाददाता
अलवर में महिला ने दिया

अलवर । राजस्थान के भरतपुर जिले के सीकरी निवासी एक महिला ने गत सोमवार अलवर के एक अस्पताल में दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त बच्चे को जन्म दिया है। इस बीमारी से ग्रस्त बच्चों को कोलाडियन बेबी कहा जाता है, जो 3 लाख में से एक बच्चे हो होती है। इस बीमारी से ग्रस्त बच्चा एक प्लास्टिक जैसी परत के भीतर होता है, जिसे हटाने से शिशु के शरीर से खून निकलता है। बहरहाल, प्रसव पीड़ा होने के दौरान जैसे ही अस्पताल स्टॉफ ने इस महिला के नवजात को देखा तो वह खबरा गए। बच्चे के शरीर पर प्लास्टिक जैसी परत को जैसे ही हटाया गया, शिशु के शऱीर से खून निकलने लगा, हालांकि डॉक्टरों ने बाद में बच्चे को बचा लिया।

जानकारी के मुताबिक , भरतपुर निवासी सिमरन को प्रसव पीड़ा होने पर असवर के साहिल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। प्रसव के दौरान नवजात ने जन्म लिया तो वह एक प्लास्टिक जैसी एक परत के भीतर था, उसे जैसे ही हटाया गया शिशु के शरीर से खून बहने लगा। यह सब देख अस्पताल का स्टाफ घबरा गया। 


आनन फानन में नवजात को जयपुर के जेके लोन अस्पताल में रेफर किया गया। डॉक्टरों ने बताया कि लाखों बच्चों में एक ऐसा केस होता है, जिसे प्लास्टिक बेबी कहा जाता है। अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि यह बच्चा कोलोडियोंन बीमारी से ग्रस्त है। य़ह एक प्रकार की आनुवांशिक बीमारी होती है जो समय से साथ ही ठीक होती है। बहरहाल, अस्पताल के डॉक्टरों ने बच्चे का इलाज शुरू कर दिया है, फिलहाल बच्चा खतरे से बाहर है।    

 

Todays Beets: