Monday, April 23, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

पालतु जानवरों के बीमार होने पर भी मिलेगी छुट्टी, नहीं कटेंगे पैसे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पालतु जानवरों के बीमार होने पर भी मिलेगी छुट्टी, नहीं कटेंगे पैसे

आप कहीं भी काम कर रहे हों बीमारी के नाम पर छुट्टी मिलती है। अगर आपका पालतु जानवर बीमार है तो उसकी देखभाल के लिए भी आपको दफ्तर से छुट्टी मिल सकती है और इसके लिए आपके कोई पैसे भी नहीं कटेंगे। इटली में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिसमें यूनिवर्सिटी में काम करने वाली के दो दिनों के पैसे काट लिए गए थे जबकि उसने सिक लीव में अपने कुत्ते की बीमारी का हवाला दिया था। 

महिला के पक्ष में सुनाया फैसला

गौरतलब है कि यूनीवर्सिटी द्वारा पैसे काटे जाने पर महिला ने कोर्ट में केस कर दिया और कोर्ट ने महिला के पक्ष में फैसला दिया है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि बीमार पशु को मरते हुए छोड़ देना किसी अपराध से कम नहीं है। यूनिवर्सिटी महिला के काटे गए वेतन का जल्द भुगतान करें। 

ये भी पढ़ें - बिना हाथ-पैर के बावजूद बेहतरीन फोटोग्राफी करता है अचमद, माॅडलों की लगी लाइन


पारिवारिक सदस्य होता है जानवर

आपको बता दें कि महिला ने यह केस यूरोप में जानवरों की राइट्स की सबसे बड़ी संस्था इटालियन एंटी विविसेक्शन लीग (एलएवी) में दर्ज कराया था जिसे उसने वकील की मदद से जीत लिया। कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि विश्वविद्यालय को जानवरों की समस्या को भी इंसानों की पर्सनल प्राॅब्लम के तौर पर देखना  चाहिए। जानवरों को गंभीर हालत में छोड़ देने पर 10 हजार डाॅलर का जुर्माना किया जाएगा। यहां बता दें कि लीग के प्रेसीडेंट ने कहा कि जानवर सिर्फ फाइनेंनशियल सपोर्ट के लिए ही नहीं होते बल्कि वो एक परिवार के सदस्य की तरह ही होते हैं।

 

 

Todays Beets: