Thursday, September 20, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

पालतु जानवरों के बीमार होने पर भी मिलेगी छुट्टी, नहीं कटेंगे पैसे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पालतु जानवरों के बीमार होने पर भी मिलेगी छुट्टी, नहीं कटेंगे पैसे

आप कहीं भी काम कर रहे हों बीमारी के नाम पर छुट्टी मिलती है। अगर आपका पालतु जानवर बीमार है तो उसकी देखभाल के लिए भी आपको दफ्तर से छुट्टी मिल सकती है और इसके लिए आपके कोई पैसे भी नहीं कटेंगे। इटली में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिसमें यूनिवर्सिटी में काम करने वाली के दो दिनों के पैसे काट लिए गए थे जबकि उसने सिक लीव में अपने कुत्ते की बीमारी का हवाला दिया था। 

महिला के पक्ष में सुनाया फैसला

गौरतलब है कि यूनीवर्सिटी द्वारा पैसे काटे जाने पर महिला ने कोर्ट में केस कर दिया और कोर्ट ने महिला के पक्ष में फैसला दिया है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि बीमार पशु को मरते हुए छोड़ देना किसी अपराध से कम नहीं है। यूनिवर्सिटी महिला के काटे गए वेतन का जल्द भुगतान करें। 

ये भी पढ़ें - बिना हाथ-पैर के बावजूद बेहतरीन फोटोग्राफी करता है अचमद, माॅडलों की लगी लाइन


पारिवारिक सदस्य होता है जानवर

आपको बता दें कि महिला ने यह केस यूरोप में जानवरों की राइट्स की सबसे बड़ी संस्था इटालियन एंटी विविसेक्शन लीग (एलएवी) में दर्ज कराया था जिसे उसने वकील की मदद से जीत लिया। कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि विश्वविद्यालय को जानवरों की समस्या को भी इंसानों की पर्सनल प्राॅब्लम के तौर पर देखना  चाहिए। जानवरों को गंभीर हालत में छोड़ देने पर 10 हजार डाॅलर का जुर्माना किया जाएगा। यहां बता दें कि लीग के प्रेसीडेंट ने कहा कि जानवर सिर्फ फाइनेंनशियल सपोर्ट के लिए ही नहीं होते बल्कि वो एक परिवार के सदस्य की तरह ही होते हैं।

 

 

Todays Beets: