Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

पालतु जानवरों के बीमार होने पर भी मिलेगी छुट्टी, नहीं कटेंगे पैसे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पालतु जानवरों के बीमार होने पर भी मिलेगी छुट्टी, नहीं कटेंगे पैसे

आप कहीं भी काम कर रहे हों बीमारी के नाम पर छुट्टी मिलती है। अगर आपका पालतु जानवर बीमार है तो उसकी देखभाल के लिए भी आपको दफ्तर से छुट्टी मिल सकती है और इसके लिए आपके कोई पैसे भी नहीं कटेंगे। इटली में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिसमें यूनिवर्सिटी में काम करने वाली के दो दिनों के पैसे काट लिए गए थे जबकि उसने सिक लीव में अपने कुत्ते की बीमारी का हवाला दिया था। 

महिला के पक्ष में सुनाया फैसला

गौरतलब है कि यूनीवर्सिटी द्वारा पैसे काटे जाने पर महिला ने कोर्ट में केस कर दिया और कोर्ट ने महिला के पक्ष में फैसला दिया है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि बीमार पशु को मरते हुए छोड़ देना किसी अपराध से कम नहीं है। यूनिवर्सिटी महिला के काटे गए वेतन का जल्द भुगतान करें। 

ये भी पढ़ें - बिना हाथ-पैर के बावजूद बेहतरीन फोटोग्राफी करता है अचमद, माॅडलों की लगी लाइन


पारिवारिक सदस्य होता है जानवर

आपको बता दें कि महिला ने यह केस यूरोप में जानवरों की राइट्स की सबसे बड़ी संस्था इटालियन एंटी विविसेक्शन लीग (एलएवी) में दर्ज कराया था जिसे उसने वकील की मदद से जीत लिया। कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि विश्वविद्यालय को जानवरों की समस्या को भी इंसानों की पर्सनल प्राॅब्लम के तौर पर देखना  चाहिए। जानवरों को गंभीर हालत में छोड़ देने पर 10 हजार डाॅलर का जुर्माना किया जाएगा। यहां बता दें कि लीग के प्रेसीडेंट ने कहा कि जानवर सिर्फ फाइनेंनशियल सपोर्ट के लिए ही नहीं होते बल्कि वो एक परिवार के सदस्य की तरह ही होते हैं।

 

 

Todays Beets: