Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

यहां भैंस चराने के लिए मिल रही सैलरी, अनपढ़ों को मिल रहा रोजगार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यहां भैंस चराने के लिए मिल रही सैलरी, अनपढ़ों को मिल रहा रोजगार

नई दिल्ली। यह बात तो आपने सुनी ही होगी कि अच्छी कमाई करनी है तो अच्छे से पढ़ो। घरों में आपने अक्सर यह बात सुनी होगी कि नहीं पढ़ोगे तो क्या भैंस चराओगे। आप सोच रहे होंगे भला भैंस चराकर भी कोई पैसे कमा सकता है, वह भी हजारों रुपये। आज हम आपको बता रहे हैं कि कैसे अनपढ़ लोग भैंस चराकर हजारों रुपये महीने कमा रहे हैं। 

अनपढ़ कर रहे कमाई 

हरियाणा और ग्रेटर नोएडा में बिहार और यूपी से आए कई अनपढ़ लोग यहां के किसानों के भैंस चराकर हजारों रुपये कमा रहे हैं। इसी का एक उदाहरण हैं बिहार के सहरसा जिले के रहने वाले झकस कुमार, जो भैंस चराकर अपनी अच्छी कमाई कर रहे हैं। नोएडा और ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे के पास झट्टा गांव के किसानों ने अपनी भैंसों को चराने के लिए झकस कुमार को काम पर रखा है। अनपढ़ झकस कुमार के पास अभी 50 भैंसें हैं, उसे हर महीने इन्हें चराने के बदले 25 हजार रुपये मिलते हैं। झकस की तरह बिहार और यूपी के कई लोग इसी काम में लगे हुए हैं।

भैंस चराओ, पैसे कमाओ

झट्टा गांव के सोहनपाल पहलवान ने बताया कि जो लोग चरवाहों का काम कर रहे हैं, वे लोग हरियाण और चंडीगढ़ में फसलों की बुआई और कटाई के समय आते हैं। यहां के किसानों के पास अपने दूसरे कामों के चलते भैंसों को चराने का वक्त नहीं मिलता है। ऐसे में यहां के किसानों ने ही इन मजदूरों को यह आइडिया दिया कि वे उनके भैंसों को चरा दिया करें और बदले में प्रति भैंस 500 से 700 रुपये महीना ले लिया करें।


हिट हुआ आइडिया

किसानों का यह आइडिया हिट हो गया और अब इलाके के बदौली, गुलावली, कामनगर आदि गांवों में तो भैंसों के लिए चरवाहे नियुक्त किए जा रहे हैं। किसानों का कहना है कि एक भैंस रोजाना 8 से 10 किलो दूध देती है। ऐसे में महीने के 15 हजार रुपये की कमाई हो जाती है। ऐसे में 500 रुपये लेकर कोई अगर भैंसों को चरा देता है तो इससे फायदा ही है। हमारा समय बच जाता है।

गांव में ही रहते हैं चरवाहे 

ये चरवाहे गांव में ही किसी के मकान में किराए पर परिवार सहित रहते हैं। सुबह आठ बजे से ये घर-घर जाकर भैंसों को खोल लेते हैं और उन्हें गांव के बाहर खेतों की ओर ले जाते हैं। भैंसों को चराने के बाद हिंडन या यमुना नदी में नहला देते हैं। दिनभर चराने के बाद वे शाम पांच बजे भैंसों को वापस गांव ले आते हैं। एक चरवाहा के मुताबिक उनके गांव के बहुत से लोग अब यही काम कर रहे हैं। इसमें पैसे भी ठीक मिल जाते हैं। बड़ी बात यह है कि उन्हें अपने रिहाइश के करीब ही रोजगार मिल जाता है।  

Todays Beets: