Wednesday, September 26, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

25 साल पहले जैल से फरार कैदी लौटा जेल वापस, वजह जान रह जाएंगे हैरान

अंग्वाल संवाददाता
25 साल पहले जैल से फरार कैदी लौटा जेल वापस, वजह जान रह जाएंगे हैरान

भले ही आप अपने कमरे को बंद करके कई घंटों उसमें अंदर रहे, आपको कोई परेशानी नहीं होगी। अगर इस पूरे घटनाक्रम को हम दूसरे नजरिए ये देखें, मसलन- कोई हमें बाहर से बंद कर दे तो हमारे अंदर एक बेचेनी पैदा होगी, जो हमें वहां आराम से बैठने नहीं देगी। अमूमन हर कोई अपने ऊपर किसी प्रकार की बंदिश नहीं चाहता। क्या पंक्षी और क्या आदमी। एक पंक्षी भी पिंजरे में मजबूरी में बंद रहता है और मौका पाते ही नीले आकाश में उड़ जाने की चाहत रखता है। बात किसी आदमी की करें तो उनके स्वभाव में बंधक बनकर रहना, उन्हें कभी पसंद नहीं आता, लेकिन हम आपको बता रहे हैं एक ऐसे शख्स के बारे में जो 25 साल पहले जेल से भाग गया था, लेकिन एक बार फिर उसे बंधक बनकर रहना, उस नीले आकाश के नीचे घूमने से ज्यादा बेहतर लगा है। आखिर क्या हुआ, जो जेल से भागने के 25 साल बाद वह लौटकर जेल में बंद होने के लिए आ गया। 

असल में यह कैदी कोच्चि के मतानचैरी का रहने वाला नजर है। सन् 1991 में हत्या के आरोप में गिरफ्तार किए जाने के बाद नजर को सजा सुनाई गई और उसे जेल भेज दिया गया। सन् 1992 में दिसंबर माह में वह 30 दिन की पैरोल पर फरार हो गया। उसे काफी खोजा गया लेकिन वह किसी की पकड़ में नहीं आया। इस बात को अब 25 साल हो गये हैं। नजर की उम्र 55 साल हो गई है। इस घटना को लेकर अब कोच्चि पुलिस ने बताया कि एक दिन नजर खुद ही जेल में वापस लौट आया। उसने खुद ही जेल के अफसरों को अपने जेल से भागने की पूरी कहानी सुनाई और बताया कि वह इतने समय कहां रहा। इसके बाद उसने बताया कि अब उसे कैंसर हो गया है। ऐसे में वह जेल में वापस आ गया। 


जेल में मौजूद पुलिस अधिकारियों ने पुराने आंकड़ों को खंगालने के बाद उसे एक बार फिर जेल में बंद कर दिय। आपको बता दें कि नजर अविवाहित है और वो भाग कर खाड़ी देश चला गया था,लेकिन जैसे ही उसे पता चला कि वह कैंसर जैसी भंरकर बामारी पीड़ित है तो उसे दुनिया में अपना कोई सहारा नहीं दिखा और वह 25 साल जेल वापस लौट आया। 

Todays Beets: