Sunday, February 18, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

अब रोबोट करेंगे इलाज और लड़ेंगे चुनाव, जाने कहां होगा ऐसा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब रोबोट करेंगे इलाज और लड़ेंगे चुनाव, जाने कहां होगा ऐसा

नई दिल्ली। अभी तक आपने मरीजों का इलाज करते हुए डाॅक्टरों को देखा होगा लेकिन अब जल्द ही ऐसे रोबोट तैयार किए जा रहे हैं जो इंसानों के शरीर के अंदर घुसकर उसकी बीमारी को ठीक करेंगे। जी हां, चीन के शोधकर्ताओं ने ऐसे ही छोटे-छोटे रोबोट्स तैयार करने में सफलता पाई है जो चुंबकीय कणों की मदद से शरीर के अंदर घुसकर ना सिर्फ बीमारियों को पहचानेंगे बल्कि बीमारियों के उपचार में भी मदद करेंगे जिसमें शरीर की कुछ खास कोशिकाओं में दवाई पहुंचानी पड़ती है।

काई से बनेगा रोबोट

आपको बता दें कि चीन में इन रोबोट्स का निर्माण पानी में पाई जाने वाली ‘काई’ में पैदा होने वाले जीवों से किया गया है। ये जीव शरीर के अंदर बीमारी की वजह से होने वाले रासायनिक परिवर्तन को पहचान लेते हैं और उन छोटे ऊतकों को भी पहचान लगा लेते हैं जो एमआरआई की पकड़ में भी नहीं आते हैं। यहां बता दें कि अभी हाल ही में सऊदी अरब में पहली बार एक रोबोट को वहां की नागरिकता दी गई थी। 


ये भी पढ़ें - छोटी सी उम्र में सुचेता ने किया कमाल, एक दो नहीं बल्कि 80 भाषाओं में गा सकती हैं गाना

रोबोट नेता लड़ेंगे चुनाव

यहां एक और बात गौर करने वाली है कि आने वाले समय में आप नेताओं की जगह रोबोट को चुनाव लडते हुए देख सकते हैं। ये रोबोट ना सिर्फ एक तेज तर्रार  नेता है बल्कि चुनाव भी लड़ने में सक्षम है। न्यूजीलैंड के उद्यमी निक गेरिटसन की मदद और सलाह से वैज्ञानिकों ने दुनिया का पहला रोबोट राजनेता बनाया है। बता दें कि आर्टिफिशल इंटेलीजेंस वाला यह नेता रोबोट आवास, शिक्षा, आव्रजन संबंधी नीतियों जैसे स्थानीय मुद्दों पर पूछे गए सवालों का बड़ी ही आसानी के साथ जवाब दे सकता है। यही वजह है कि 2020 में न्यूजीलैंड में होने वाले आम चुनाव में इसे उम्मीदवार बनाने की तैयारियां भी की जा रही हैं। इस डिजिटल राजनेता का नाम ‘सैम’ दिया गया है। 

Todays Beets: