Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

गोल्डफिश महीनों तक बिना ऑक्सीजन के रह सकती है जीवित 

अंग्वाल संवाददाता
गोल्डफिश महीनों तक बिना ऑक्सीजन के रह सकती है जीवित 

लंदन। वैज्ञानिकों ने गोल्डफिश को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है। वैज्ञानिकों के अनुसार, अधिक सर्दी में जब जलाशय जम जाते हैं, तो उनमें रहने वाली मछलियां शराब के जरिए ऑक्सीजन की कमी को पूरा करके खुद को जिंदा रखती है। दरअसल, ओस्लो विश्वविद्यालय और लिवरपूल विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों का कहना है कि जमा देने वाली कड़ाके की सर्दी में जब तालाबों की ऊपरी सतह बर्फ बन जाती है। तो उसके नीचे पानी में ऑक्सीजन में कमी होने लगती है। ऐसे में गोल्डफिश खुद को जिंदा रखने के लिए अपने शरीर में बनने वाले लैक्टिक एसिड को इथेनॉल में बदलना शुरू कर देती हैं। यह इथेनॉल उनके गिल्स के आसपास फैल जाता है और  उनके शरीर में घातक लैक्टिक एसिड को बनने से भी रोकता है। इस तरह गोल्डफिश और इसी नस्ल की अन्य मछिलयां कई महीनों तक सर्दियों के दौरान खुद को जीवित रखती हैं।

यह भी पढ़े- यह है दुनिया की सबसे ऊंची लिफ्ट, गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भी दर्ज है इसका नाम

 

 


अध्ययन के अनुसार, उत्तरी यूरोप में भीषण सर्दियों में जब महीनों तक जलाशय की ऊपरी सतह पूरी तरह बर्फ जमी रहती है और जल में ऑक्सीजन लगभग खत्म हो चुकी होती है। तो इन मछिलयों के रक्त में प्रति 100 मिलीमीटर में शराब की मात्रा 50 मिलीग्राम तक पहुंच जाती है।

यह भी पढ़े- आधी 'औरत' आधी 'लोमड़ी', विश्वभर से देखने आते है लोग,देखें तस्वीरें

 

Todays Beets: