Tuesday, January 23, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

गोल्डफिश महीनों तक बिना ऑक्सीजन के रह सकती है जीवित 

अंग्वाल संवाददाता
गोल्डफिश महीनों तक बिना ऑक्सीजन के रह सकती है जीवित 

लंदन। वैज्ञानिकों ने गोल्डफिश को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है। वैज्ञानिकों के अनुसार, अधिक सर्दी में जब जलाशय जम जाते हैं, तो उनमें रहने वाली मछलियां शराब के जरिए ऑक्सीजन की कमी को पूरा करके खुद को जिंदा रखती है। दरअसल, ओस्लो विश्वविद्यालय और लिवरपूल विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों का कहना है कि जमा देने वाली कड़ाके की सर्दी में जब तालाबों की ऊपरी सतह बर्फ बन जाती है। तो उसके नीचे पानी में ऑक्सीजन में कमी होने लगती है। ऐसे में गोल्डफिश खुद को जिंदा रखने के लिए अपने शरीर में बनने वाले लैक्टिक एसिड को इथेनॉल में बदलना शुरू कर देती हैं। यह इथेनॉल उनके गिल्स के आसपास फैल जाता है और  उनके शरीर में घातक लैक्टिक एसिड को बनने से भी रोकता है। इस तरह गोल्डफिश और इसी नस्ल की अन्य मछिलयां कई महीनों तक सर्दियों के दौरान खुद को जीवित रखती हैं।

यह भी पढ़े- यह है दुनिया की सबसे ऊंची लिफ्ट, गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भी दर्ज है इसका नाम

 

 


अध्ययन के अनुसार, उत्तरी यूरोप में भीषण सर्दियों में जब महीनों तक जलाशय की ऊपरी सतह पूरी तरह बर्फ जमी रहती है और जल में ऑक्सीजन लगभग खत्म हो चुकी होती है। तो इन मछिलयों के रक्त में प्रति 100 मिलीमीटर में शराब की मात्रा 50 मिलीग्राम तक पहुंच जाती है।

यह भी पढ़े- आधी 'औरत' आधी 'लोमड़ी', विश्वभर से देखने आते है लोग,देखें तस्वीरें

 

Todays Beets: