Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

जींद में ‘जख्मी जूतों का अस्पताल’ चलाने वाले डाॅक्टर को मिलेगा नया क्लीनिक...

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जींद में ‘जख्मी जूतों का अस्पताल’ चलाने वाले डाॅक्टर को मिलेगा नया क्लीनिक...

नई दिल्ली। सोशल मीडिया कब किसे फर्श से अर्श पर पहुंचा दे इस बात का पता शायद ही किसी को होता है। पाकिस्तान के चायवाले लड़के, नेपाल की तरकारी वाली और सिंगापुर हवाई अड्डे के सिक्योरिटी गार्ड के बाद हरियाणा के जींद इलाके में जूते की मरम्मत करने वाले नरसीराम भी इसमें शामिल हो गए हैं। नरसीराम द्वारा जूते की मरम्मत करने के लिए ‘जख्मी जूतों का अस्पताल’ के नाम से बैनर लगाया है, यह फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होते हुए उद्योगपति आनंद महिंद्रा तक पहुंच गया। आनंद महिंद्रा को मार्केटिंक का तरीका इस कदर भाया कि उन्होंने उनकी मदद के लिए हाथ आगे बढ़ा दिया। अब नरसीराम के अस्पताल के लिए नया क्लीनिक तैयार किया जा रहा है। आनंद महिंद्रा ने नरसीराम और उनकी दुकान की फोटो अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर करते हुए दुनिया को मार्केटिंग का अनोखा अंदाज दिखाया।

ये भी पढ़ें- डॉन छोटा राजन पत्रकार जेडे हत्याकांड में दोषी करार, मिलेगी उम्रकैद की सजा !

गौरतलब है कि नरसीराम ने अपनी दुकान का नाम जूतों का अस्पताल रख दिया था और यह फोटो वायरल होते हुए आनंद्र महिंद्रा के पास पहुंच गई थी। इसके बाद उन्होंने अपने कर्मचारियों को नरसीराम को ढूंढने के निर्देश दे दिए। दिलचस्प बात है कि नरसीराम का पता मिल गया है और अब उनके लिए नया क्लीनिक यानि नई दुकान बनाई जा रही है, जहां वह शान से जूतों की मरम्मत कर सकेंगे। 

ये भी पढ़ें - लाखों का पैकेज छोड़कर साॅफ्टवेयर इंजीनियर बना ‘चाय वाला’, बाईक से करते हैं चाय की डिलीवरी, कई ...


यहां बता दें की नरसीराम ने अपनी दुकान में एक बैनर टांगा हुआ है जिसमें उन्होंने उसे जूतों का अस्पताल नाम दिया है और खुद को डाॅक्टर नरसीराम बताया है। बैनर में जूतों को ठीक कराने के लिए कई जानकारियां दी गई हैं, जैसे- ओ.पी.डी, सुबह 9 से दोपहर 1 बजे, लंच टाइम-  दोपहर 1 से 2 बजे और शाम 2 से 6 बजे तक अस्तपाल खुला रहेगा। इसके आगे यह भी लिखा है कि उनके यहां सभी जूतों की मरम्मत जर्मन तरीके से किया जाता है। आनंद महिंद्रा ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘इन्हें तो आईआईएम में फैकल्टी होना चाहिए।’

ये भी पढ़ें- दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर है कानपुर, WHO की 15 शहरों की सूची में 14 भारत के, जानिए अपने शहर...

खास बात है कि नरसीराम की नई दुकान पर यही बैनर लगाया जाएगा। जब महिंद्रा ग्रुप की टीम नरसीराम से मिली तो उनसे पूछा गया कि उनकी कुछ मदद कर सकते हैं। टीम की ओर से पैसों की मदद की पेशकश भी की गई लेकिन नरसीराम ने आर्थिक मदद लेने से इनकार कर दिया। हालांकि, नरसीराम ने कहा कि उन्हें काम के लिए बेहतर जगह की जरूरत है। 

महिंद्रा ने ट्वीट में आगे लिखा कि उन्होंने मुंबई की अपनी डिजाइन स्टूडियो टीम से एक चलती-फिरती दुकान डिजाइन करने को कहा है। नरसीराम की जरुरत के हिसाब से उनके लिए नई चलती-फिरती दुकान तैयार की जाएगी। 

Todays Beets: