Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

हवा में उड़ने का अजीब कारनामा, कुर्सी में बैलून बांधकर 16 मील का किया सफर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हवा में उड़ने का अजीब कारनामा, कुर्सी में बैलून बांधकर 16 मील का किया सफर

आपने पैरासूट या फिर गैस वाले गुब्बारे में लोगों के घूमने के बारे में सुना होगा लेकिन आज हम आपको एक ऐसी कहानी बताने जा रहे हैं जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जो कुछ अलग करने की जुगत में लगे रहते है लेकिन संसाधनों और पैसों के अभाव के कारण लोग ऐसा नहीं कर पाते हैं। जी हां अपने इसी शौक को पूरा करने के लिए दक्षिण अफ्रीका के टॉम मॉर्गन ने एक कुर्सी में गुब्बारे को बांधकर मीलों उड़कर सबको हैरान कर दिया। 

कुर्सी से उड़ान का मजा

गौरतलब है कि 38 साल के टॉम ने हवा में उड़ने के लिए करीब 100 गुब्बारों में हीलियम गैस भरी और इसके बाद उन सारे गुब्बारों को एक कुर्सी से बांध दिया जिसके बाद वे करीब 16 मील तक का सफर किया और उन्हें काफी मजा आया। यहां बता दें कि टाॅम ने यह कारनामा पहली बार नहीं किया है। इससे पहले भी उन्होंने बोट्सवाना पहले भी 3 बार ऐसा कर चुके हैं। टाॅम का कहना है कि यह काफी खतरनाक है लेकिन उन्होंने कोशिश जारी रखी और इस बार उन्हें सफलता मिल गई। 


ये भी पढ़ें - पालतु जानवरों के बीमार होने पर भी मिलेगी छुट्टी, नहीं कटेंगे पैसे

और ज्यादा घूमना चाहते हैं टाॅम

इसके लिए वह कुछ न कुछ नया तलाशते रहते हैं। ऐसे में जब एक आर्टकिल में पढ़ा कि 1905 में बैलून में गैस भरी गई थी तो उन्हें लगा कि एक बार उन्हें भी इसे ट्राई करना चाहिए। बस इसके बाद ही उन्होंने इसकी प्रैक्टिस करनी शुरू कर दी। अभी वह इस तरीके से और ज्यादा घूमना चाहते हैं। टॉम मॉर्गन से पहले भी दक्षिण अमेरिका के एक व्यक्ति ने ऐसा करने की कोशिश की थी लेकिन वह काफी ऊंचाई पर चला गया और वापस नहीं लौट पाया।

Todays Beets: