Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

हवा में उड़ने का अजीब कारनामा, कुर्सी में बैलून बांधकर 16 मील का किया सफर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हवा में उड़ने का अजीब कारनामा, कुर्सी में बैलून बांधकर 16 मील का किया सफर

आपने पैरासूट या फिर गैस वाले गुब्बारे में लोगों के घूमने के बारे में सुना होगा लेकिन आज हम आपको एक ऐसी कहानी बताने जा रहे हैं जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जो कुछ अलग करने की जुगत में लगे रहते है लेकिन संसाधनों और पैसों के अभाव के कारण लोग ऐसा नहीं कर पाते हैं। जी हां अपने इसी शौक को पूरा करने के लिए दक्षिण अफ्रीका के टॉम मॉर्गन ने एक कुर्सी में गुब्बारे को बांधकर मीलों उड़कर सबको हैरान कर दिया। 

कुर्सी से उड़ान का मजा

गौरतलब है कि 38 साल के टॉम ने हवा में उड़ने के लिए करीब 100 गुब्बारों में हीलियम गैस भरी और इसके बाद उन सारे गुब्बारों को एक कुर्सी से बांध दिया जिसके बाद वे करीब 16 मील तक का सफर किया और उन्हें काफी मजा आया। यहां बता दें कि टाॅम ने यह कारनामा पहली बार नहीं किया है। इससे पहले भी उन्होंने बोट्सवाना पहले भी 3 बार ऐसा कर चुके हैं। टाॅम का कहना है कि यह काफी खतरनाक है लेकिन उन्होंने कोशिश जारी रखी और इस बार उन्हें सफलता मिल गई। 


ये भी पढ़ें - पालतु जानवरों के बीमार होने पर भी मिलेगी छुट्टी, नहीं कटेंगे पैसे

और ज्यादा घूमना चाहते हैं टाॅम

इसके लिए वह कुछ न कुछ नया तलाशते रहते हैं। ऐसे में जब एक आर्टकिल में पढ़ा कि 1905 में बैलून में गैस भरी गई थी तो उन्हें लगा कि एक बार उन्हें भी इसे ट्राई करना चाहिए। बस इसके बाद ही उन्होंने इसकी प्रैक्टिस करनी शुरू कर दी। अभी वह इस तरीके से और ज्यादा घूमना चाहते हैं। टॉम मॉर्गन से पहले भी दक्षिण अमेरिका के एक व्यक्ति ने ऐसा करने की कोशिश की थी लेकिन वह काफी ऊंचाई पर चला गया और वापस नहीं लौट पाया।

Todays Beets: