Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

HRD का केंद्रीय विश्वविद्यालयों को नोटिस, पूर्व शिक्षकों को किया जाए नियुक्त 

अंग्वाल संवाददाता
HRD का केंद्रीय विश्वविद्यालयों को नोटिस, पूर्व शिक्षकों को किया जाए नियुक्त 

नई दिल्ली। केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की कमी को पूरा करने के लिए सेवानिवृत्त शिक्षकों को तैनात किया जाएगा। हालांकि विश्वविद्यालयों को कहा गया है कि वे रेगुलर भर्ती प्रक्रिया में तेजी लाएं, लेकिन साथ ही आदेश में कहा गया है कि केवल उन्हीं सेवानिवृत शिक्षकों को तैनात किया जाए जो शारीरिक रूप से स्वस्थ हों। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार, गत बुधवार को इस संदर्भ में विश्वविद्यालयों को निर्देश जारी किए गए हैं। दरअसल, केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के करीब 40 फीसदी पद खाली हैं, जिन पर लंबे समय से नियुक्तियां नहीं हुई हैं। 

यह भी पढ़े- विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं


मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि विश्वविद्यालय तत्काल शिक्षकों की कमी को पूरा करने के लिए पूर्व सेवीनिवृत शिक्षकों को खाली पदों पर तैनात करें। साथ ही उनके मेडिकल टेस्ट के आधार पर केवल कांट्रेक्ट पर ही भर्ती दें। नियुक्ति एक-एक साल के लिए होगी और हर साल स्वास्थय ठीक होने पर ही इसे विस्तारित किया जाएगा। मंत्रालय ने पहले ही आईआईटी और आईआईएम जैसे शीर्ष संस्थानों को 70 साल की उम्र तक शिक्षकों की सेवाएं लेने की अनुमति दे रखी है। शिक्षकों की सेवानिवृत्ति की आयु आईआईटी और केंद्रीय विश्वविद्यालयों में 65 साल है, लेकिन अब आईआईटी के फार्मूले को केंद्रीय विश्वविद्यालयों के शिक्षकों को भी 70 साल की उम्र तक पढ़ाने की अनुमति दी जाएं, लेकिन शर्त है कि उनकी सेहत सही रहे। 

Todays Beets: