Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

HRD का केंद्रीय विश्वविद्यालयों को नोटिस, पूर्व शिक्षकों को किया जाए नियुक्त 

अंग्वाल संवाददाता
HRD का केंद्रीय विश्वविद्यालयों को नोटिस, पूर्व शिक्षकों को किया जाए नियुक्त 

नई दिल्ली। केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की कमी को पूरा करने के लिए सेवानिवृत्त शिक्षकों को तैनात किया जाएगा। हालांकि विश्वविद्यालयों को कहा गया है कि वे रेगुलर भर्ती प्रक्रिया में तेजी लाएं, लेकिन साथ ही आदेश में कहा गया है कि केवल उन्हीं सेवानिवृत शिक्षकों को तैनात किया जाए जो शारीरिक रूप से स्वस्थ हों। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार, गत बुधवार को इस संदर्भ में विश्वविद्यालयों को निर्देश जारी किए गए हैं। दरअसल, केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के करीब 40 फीसदी पद खाली हैं, जिन पर लंबे समय से नियुक्तियां नहीं हुई हैं। 

यह भी पढ़े- विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं


मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि विश्वविद्यालय तत्काल शिक्षकों की कमी को पूरा करने के लिए पूर्व सेवीनिवृत शिक्षकों को खाली पदों पर तैनात करें। साथ ही उनके मेडिकल टेस्ट के आधार पर केवल कांट्रेक्ट पर ही भर्ती दें। नियुक्ति एक-एक साल के लिए होगी और हर साल स्वास्थय ठीक होने पर ही इसे विस्तारित किया जाएगा। मंत्रालय ने पहले ही आईआईटी और आईआईएम जैसे शीर्ष संस्थानों को 70 साल की उम्र तक शिक्षकों की सेवाएं लेने की अनुमति दे रखी है। शिक्षकों की सेवानिवृत्ति की आयु आईआईटी और केंद्रीय विश्वविद्यालयों में 65 साल है, लेकिन अब आईआईटी के फार्मूले को केंद्रीय विश्वविद्यालयों के शिक्षकों को भी 70 साल की उम्र तक पढ़ाने की अनुमति दी जाएं, लेकिन शर्त है कि उनकी सेहत सही रहे। 

Todays Beets: