Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

विदेशी विश्वविद्यालय से पीएचडी करने वाले सीधे बनेंगे असिस्टेंट प्रोफेसर, यूजीसी का ऐलान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विदेशी विश्वविद्यालय से पीएचडी करने वाले सीधे बनेंगे असिस्टेंट प्रोफेसर, यूजीसी का ऐलान

नई दिल्ली। विदेश से पीएचडी करने वाले नौजवानों को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने एक बड़ा तोहफा दिया है। अब ऐसे डिग्रीधारक नौजवानों को भारतीय विश्वविद्यालय में सीधे असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर भर्ती के लिए योग्य माने जाएंगे। बताया जा रहा है कि यूजीसी ने करीब 500 विदेशी विश्वविद्यालयों को इस सूची में रखा है। नए नियुक्ति मानकों में इन विश्वविद्यालयों का फैसला 4 मशहूर विश्वविद्यालयों के रैंकिंग सिस्टम के आधार पर किया जाएगा। इनमें क्वाकक्वारेली साइमंड्स, टाइम्स हायर एजुकेशन रैंकिंग और एकेडमिक रैंकिंग ऑफ वर्ल्ड यूनिवर्सिटीज ऑफ द शंघाई जियाओ टोंग यूनिवर्सिटी के रैंकिंग सिस्टम शामिल हैं।

गौरतलब है कि यूजीसी की इस कवायद से भारतीय छात्रों को घरेलू विश्वविद्यालय में ही वैश्विक प्रतिभाओं से शिक्षा हासिल करने का मौका मिलेगा। आइए आपको बता दें कि यूजीसी के ओर से विदेशी विश्वविद्यालयों के डिग्रीधारक छात्रों की नियुक्ति किस तरह से होगी।  

ये भी पढ़ें - अब बस्ते के बोझ से बच्चों को मिलेगी निजात, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने तय किया वजन

नियुक्ति के नियम

- किसी भी भारतीय या मान्यता प्राप्त विदेशी विश्वविद्यालय से कम से कम 55 फीसदी अंकों के साथ मास्टर डिग्री अनिवार्य


- यूजीसी या सीएसआईआर की तरफ से आयोजित राष्ट्रीय योग्यता परीक्षा (नेट) या स्लेट, सेट आदि उत्तीर्ण करना होगा

- भारतीय विश्वविद्यालय से पीएचडी करने वालों के लिए सीधी भर्ती का मौका होगा, लेकिन मास्टर डिग्री में 55 फीसदी अंक होने चाहिए

- विदेशी विश्वविद्यालय से पीएचडी करने वालों के लिए मास्टर डिग्री में न्यूनतम अंक व लिखित परीक्षा से छूट, लेकिन इंटरव्यू में आंका जाएगा प्रदर्शन 

इन विषयों में मिलेगा मौका

आर्ट्स, कामर्स, मानविकी, एजुकेशन, कानून, सामाजिक विज्ञान, विज्ञान, भाषा, लाइब्रेरी साइंस, फिजिकल एजुकेशन और पत्रकारिता व जनसंचार। 

Todays Beets: