Friday, June 22, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

अच्छी शिक्षा की कमी में पहाड़ो के स्कूल हो रहे खाली, कई स्कूलों में आते हैं मात्र 2-3 छात्र

अंग्वाल संवाददाता
अच्छी शिक्षा की कमी में पहाड़ो के स्कूल हो रहे खाली, कई स्कूलों में आते हैं मात्र 2-3 छात्र

देहरादून। जहां एक तरफ प्रदेश सरकार पहाड़ों से हो रहा पलायन रोकने को लेकर चिंता जाहिर कर रही है, वहीं दूसरी ओर बच्चों की परविश और अच्छी शिक्षा के चलते गांव खाली हो रहे हैं। गांव में बच्चों की मस्ती ओर शोर-शराबा के बजाय अब सनाटा सुनने को मिलता है। कई गांवों में अब न तो कोई बच्चा है और ना ही कोई जवान। रिपोर्ट के मुताबिक, अबतक चमोली जिले के 12 सरकारी स्कूल पर ताले लग गए है। गांव के बच्चे नजदीकी शहरों में इंग्लिश मीडियम स्कूल में पढ़ने जा रहे हैं। स्कूल में बच्चें न होने का कारण प्राथमिक और जूनियर स्कूल बंद होने की कगार पर हैं। रिपोर्ट के अनुसार, वर्तमान में चमोली के 9 विकासखंडों में कुल 972 प्राथमिक और 207 जूनियर स्कूल ही चल रहे हैं।

यह भी पढ़े- विदेश में पढ़ाई करने का सपना अब होगा पूरा, इन जगहों पर फ्री में मिलती है हायर एजुकेशन

 


इतना ही नहीं कई स्कूल ऐसे भी है जहां केवल 2-3 छात्र पढ़ने आते हैं। हर साल लगातार प्राथमिक स्कूलों में छात्रों की कम होती संख्या के कारण सरकारी स्कूलों की पढ़ाई पर भी सवाल उठ रहा हैं। लोगों का कहना है कि गांव के स्कूलों में नियुक्त टीचर भी गांव में नही रहना चाहते हैं। वह शहरों में कमरे लेकर रह रहे हैं, जिसके कारण वह स्कूल देर से पहुंचते हैं। इससे बच्चों की पढ़ाई काफी प्रभावित होती है। कुछ लोगों का तो कहना है कि सरकार को सरकारी स्कूलों का निजीकरण कर देना चाहिए।

 

यह भी पढ़े-  प्राईवेट स्कूलों को खाली सीटों की जानकारी पब्लिक करने का दिया गया आदेश

Todays Beets: