Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

नहीं घटेगी सिविल सेवा परीक्षा में सामान्य वर्गों के छात्रों की उम्र सीमा-जितेन्द्र सिंह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नहीं घटेगी सिविल सेवा परीक्षा में सामान्य वर्गों के छात्रों की उम्र सीमा-जितेन्द्र सिंह

नई दिल्ली। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की तैयारी करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। सरकार ने आयोग की परीक्षा में शामिल होने वालों के आयु मानदंड को लेकर किसी तरह का बदलाव करने से मना कर दिया है। बता दें कि नीति आयोग ने केद्र सरकार को सिविल सेवा परीक्षा में शामिल होने वाले सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थियों की अधिकतम आयु सीमा को 32 घटाकर 27 वर्ष करने का सुझाव दिया था। फिलहाल सरकार की ओर से कहा गया है कि इस तरह की अटकलों पर विराम लगाया जाना चाहिए। 

गौरतलब है कि यूपीएससी में आवेदन करने के लिए सामान्य श्रेणी के उम्मीदवारों की अधिकतम उम्र सीमा 32 साल है। नीति आयोग ने इसे घटाकर 27 साल करने की सलाह दी थी। प्रधानमंत्री कार्यालय में मंत्री डाॅक्टर जितेन्द्र सिंह ने कहा कि सरकार की ओर से इस तरह का कोई कदम नहीं उठाया गया है और इस तरह के कयासों और अटकलों पर विराम लगाया जाना चाहिए। 

ये भी पढ़ें- भारत को अस्थिर कर सकता है पाकिस्तान, आईएसआई 2 हजार और 500 के नकली नोट भेजने के फिराक में- खुफ...


यहां बता दें कि मंत्री ने कहा कि सिविल सेवा की परीक्षाओं में शामिल होने के लिए न्यूनतम आयु सीमा 21 और अधिकतम 32 वर्ष है। इससे पूर्व बासवन कमेटी भी आयु सीमा में कटौती की संस्तुति कर चुकी है। पूर्ववर्ती यूपीए सरकार द्वारा सिविल सेवा परीक्षा में सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट (सीसैट) लागू कर इसके प्रारूप में व्यापक बदलाव किया गया था। केंद्र में भाजपा सरकार बनने के बाद प्रतियोगी छात्रों ने 2014 में राजधानी दिल्ली सहित अन्य शहरों में इसके खिलाफ जमकर आंदोलन किया था। इसके बाद ही सरकार ने नीति आयोग की सिफारिशों को मानने से इंकार कर दिया है। 

आपको बता दें कि नीति आयोग ने 2022-23 तक सिविल सेवा परीक्षा में सामान्य वर्गों के उम्मीदवारों की आयुसीमा करने के साथ ही इस बात की भी सिफारिश की थी कि इसके लिए एक ही परीक्षा ली जाए।

Todays Beets: