Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

जल्द ही स्कूलों में पढ़ाई जाएगी , ब्रज, भोजपुरी , अवधी और बुंदेलखंड़ी , एनसीईआरटी ने लिया फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जल्द ही स्कूलों में पढ़ाई जाएगी , ब्रज, भोजपुरी , अवधी और बुंदेलखंड़ी , एनसीईआरटी ने लिया फैसला

नई दिल्ली । मनुष्य किसी भी भाषा के ज्ञान को अपनी बोली में ज्यादा अच्छे से समझ पाता है इसी बात को ध्यान में रखते हुए एनसीईआरटी ने सरकारी स्कूलों में बच्चों को हिंदी भाषा सिखाने के लिए नई योजना बनाई है।  एनसीईआरटी की तरफ से सरकारी स्कूलों की पहली और दूसरी कक्षा के बच्चों को हिंदी के "कलरव" को ब्रज, अवधी , भोजपुरी और बुंदेलखंड़ी जैसी  देशज भाषा में सिखाने का काम किया जाएगा।

यें भी पढ़ें- देश से फरार हीरा कारोबारी ‘नीरव’ को जल्द लाया जाएगा भारत, विशेष कोर्ट ने प्रत्यर्पण की अपील की मंजूर

 राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने हिंदी की किताबों का अनुवाद देशज भाषा में करवाना शुरू भी कर दिया है जिसमें से अवधी भाषा की किताबें डिजिटल और ऑडियो में छप भी गई हैं तो वहीं बुंदेलखंडी, भोजपुरी और ब्रज भाषा में अनुवाद का काम चल रहा है। बता दें कि अनुवाद की गई किताबें देश के उन राज्यों में जाएगी जहां इन भाषाओं का प्रयोग होता है। 


यें भी पढ़ें- गढ़वा में नक्सलियों का जगुआर फोर्स पर हमला, 6 जवान शहीद 5 घायल

एनसीईआरटी के संयुक्त निदेशक अजय कुमार सिंह ने कहा है कि अभी हम अनुवाद की गई पुस्तकों का प्रयोग पहली और दूसरी कक्षा के बच्चों पर कर रहे हैं । अगर इस प्रयोग का फायदा होता है तो तीसरी कक्षा के छात्रों की हिंदी की  पुस्तकों का भी अनुवाद और ऑडियो तैयार किया जाएगा।

Todays Beets: