Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

अब बस्ते के बोझ से बच्चों को मिलेगी निजात, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने तय किया वजन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब बस्ते के बोझ से बच्चों को मिलेगी निजात, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने तय किया वजन

नई दिल्ली। अब स्कूल जाने वाले बच्चों को बस्ते का भारी बोझ नहीं उठाना पड़ेगा। सोमवार को मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से नई गाइडलाइन जारी करते हुए पहली से 10वीं कक्षा तक के बच्चों के बस्ते का वजन तय कर दिया है। इस नए दिशानिर्देश के अनुसार कक्षा 1 और 2 में पढ़ने वाले वाले बच्चों के स्कूल बैग का वजन 1.5 किलो तय किया गया है वहीं कक्षा 3 से कक्षा 5 तक के छात्र-छात्राओं के स्कूल बैग का वजन 2 से 3 किलो तय किया गया है। बता दें कि अभिभावकों की ओर से काफी समय से बच्चों के बस्ते का वजन कम करने की मांग की जा रही थी।

गौरतलब है कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से 6ठी और 7वीं कक्षा के छात्र-छात्राओं के स्कूल बैग का वजन 4 किलो तय कर दिया गया है। वहीं 8वीं और 9वीं कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों के बैग का वजन साढ़े 4 किलो निर्धारित किया गया है जबकि 10वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्रों के बस्ते का वजन 5 किलो तय किया गया है। 

ये भी पढ़ें - अब इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट के छात्रों को रट्टा लगाने की जरूरत नहीं, किताबें खोलकर दे सकेंगे परीक्षा


यहां बता दें कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से सभी राज्यों को सर्कुलर भेज दिया गया है। मंत्रालय की ओर से बड़ा कदम उठाते हुए कहा गया है कि कक्षा 1 और 2 में पढ़ने वाले बच्चों को होमवर्क नहीं दिया जाए। इसके साथ ही निर्देश दिए गए हैं कि उनको केवल भाषा और गणित ही पढ़ाई जाएगी और कोई भी दूसरा विषय नहीं पढ़ाया जाएगा। 

आपको बता दें कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से जारी निर्देश में कहा गया है कि कक्षा 3 से कक्षा 5 तक के छात्रों को भाषा ईवीएस और मैथ एनसीआरटी के सिलेबस से पढाया जाए। इसके साथ ये भी निर्देश दिए गए हैं कि बच्चे किसी भी तरह का भारी सामान स्कूल बैग में न लाएं।

Todays Beets: