Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

अगले सत्र से सभी चिकित्सा कोर्स में दाखिले के लिए नीट पास करना होगा जरूरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अगले सत्र से सभी चिकित्सा कोर्स में दाखिले के लिए नीट पास करना होगा जरूरी

नई दिल्ली। अब आयुर्वेद, होम्योपैथिक और यूनानी शिक्षा हासिल करने के लिए नीट अनिवार्य होगा। आयुष विभाग के सचिव राजेश कटोच ने साफ कह दिया है कि अगले सत्र से सभी तरह के चिकित्सा कोर्स के लिए नीट अनिवार्य होगा। यहां बता दें कि एमबीबीएस के लिए नीट पहले से ही अनिवार्य है। छात्रों को कम से कम 50 फीसदी अंकों के साथ नीट परीक्षा पास करनी होगी।

मानकों में सुधार करना जरूरी

आपको बता दें कि कटोच ने बताया कि आयुष चिकित्सा की गुणवत्ता में सुधार लाने के मकसद से ऐसा किया जा रहा है। आयुष के तहत देश में उपरोक्त चिकित्सा पैथियों के करीब 750 मेडिकल काॅलेज हैं। वहीं करीब 150 काॅलेज अभी लंबित हैं। बता दें कि आयुर्वेद, होम्योपैथ और यूनानी की करीब 36 हजार सीटें हैं जिसके प्रवेश के लिए कोई कॉमन प्रवेश परीक्षा नहीं होती है। एमबीबीएस की तरह जब इन सभी चिकित्सा कोर्स साढ़े चार साल में पूरे होते हैं तो एमबीबीएस की तरह नीट इसमें क्यों नहीं लागू होना चाहिए। 


ये भी पढ़ें - सिविल सेवा की परीक्षा में शामिल होने वाले नौजवान टेंशन न लें, नहीं घटेगी अधिकतम उम्र सीमा 

मुद्दों का होगा समाधान

यहां बता दें कि अगले सत्र से सभ्सी चिकित्सा कोर्स में प्रवेश के लिए नीट को अनिवार्य कर दिया है। कटोच ने कहा कि फिलहाल इसमें कुछ मुद्दे हैं जिसका जल्द ही समाधान करने पर विचार किया जा रहा है। अब मंत्रालय स्वेच्छा से अपनी तरफ से ये नियम लागू कर रहा है। आयुष में पीजी कोर्स में प्रवेश नीट के जरिए हो रहे हैं। यहां यह व्यवस्था पिछले साल से ही लागू कर दी गई है।   

Todays Beets: