Thursday, December 13, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

NEET के रिजल्ट पर लगी रोक सुप्रीम कोर्ट ने हटाई, सीबीएसई को 26 जून से पहले रिजल्ट घोषित करने के निर्देश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
NEET के रिजल्ट पर लगी रोक सुप्रीम कोर्ट ने हटाई, सीबीएसई को 26 जून से पहले रिजल्ट घोषित करने के निर्देश

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को मेडिकल प्रवेश परीक्षा (नीट) के रिजल्ट घोषित करने को लेकर मद्रास हाईकोर्ट द्वारा लगाई गई रोक के अंतरिम आदेश को रद्द कर दिया। इसके साथ ही नीट का परिणाम घोषित करने का रास्ता अब साफ हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई को रिजल्ट घोषित करने की इजाजत दे दी है। सुप्रीम कोर्ट ने 26 जून से पहले रिजल्ट घोषित करने का आदेश दिया है। इस आदेश के बाद अब सीबीएसई नीट की चयन प्रक्रिया जारी रख सकती है, जो मद्रास हाईकोर्ट के अंतरिम आदेश के चलते रुक गई थी। 

ये भी पढ़ें- चिकित्सा से जुड़े सभी क्षेत्रों के लिए ‘नीट’ होगा जरूरी, स्वास्थ्य मंत्रालय कर रहा विचार

मद्रास हाईकोर्ट के अंतरिम आदेश पर रोक लगाने के साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने देश की सभी हाईकोर्ट को निर्देश जारी किया है कि वे नीट 2017 से जुड़ी किसी भी याचिका पर सुनवाई न करें। सुप्रीम कोर्ट ही इन याचिकाओं पर अब सुनवाई करेगी। इससे पहले सीबीएसई ने मद्रास हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिता दाखिल करते हुए जल्द सुनवाई की मांग की थी।

ये भी पढ़ें- आईसीएसई के स्कूलों में अब 5वीं और 8वीं की भी बोर्ड परीक्षा, योग और संस्कृत बनेंगे अनिवार्य विषय


सीबीएसई ने कहा कि इस साल नीट की परीक्षा देने वाले छात्रों का रिजल्ट मद्रास हाईकोर्ट के अंतरिम आदेश के चलते रुक गया है। असल में मद्रास हाईकोर्ट में 24 मई को नीट परीक्षा को लेकर कई याचिकाओं के मद्देनजर रिजल्ट पर अंतिरम रोक लगा दी गई थी। याचिकाओं में आरोप लगाए गए कि परीक्षा में एक जैसे प्रश्नपत्र नहीं दिए गए। अंग्रेजी और तमिल भाषाओं के प्रश्नपत्रों में बहुत अंतर था। इस पर सीबीएसई का कहना था कि इस बार पेपर लीक होने की आशंकाओं से बचाने के लिए कुछ प्रांतिय भाषाओं में अलग प्रश्न पत्र दिए गए थे, जबकि हिंदी-अंग्रेजी में प्रश्न पत्र दिया गया था। 

ये भी पढ़ें- डीयू के सिख कॉलेजों में कोटे से दाखिले के लिए कड़े हैं नियम, दाढ़ी रखना जरूरी, नहीं चलेगी स्कर्ट-केप्री

सीबीएसई की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल मनिंदर सिंह ने पीठ को बताया कि 2017 में सीबीएसई द्वारा आयोजित नीट परीक्षा में करीब 12 लाख अभ्यार्थियों ने हिस्सा लिया, जिनमें से 10 लाख ने हिंदी या अग्रेजी में परीक्षा दी। जबकि करीब सवा से डेढ़ लाख छात्रों ने आठ क्षेत्रिय भाषाओं में परीक्षाएं दी थीं। 

ये भी पढ़ें- देश की बिगड़ती शिक्षा व्यवस्था में होगा बड़ा सुधार, UGC,AICTE की जगह लेगा HEERA

Todays Beets: