Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं

अंग्वाल संवाददाता
विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं

नई दिल्ली। दुनिया के शीर्ष उच्च शिक्षा संगठनों की श्रेणी में भारतीय विश्वविद्यालयों का प्रदर्शन सुधरने के बजाय और बिगड़ गया है। टाइम्स हायर एजेकुशन वर्ल्ड यूनिवर्सिटी की 2018 लिस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, विश्व के 250 शीर्ष संस्थानों में एक भी भारतीय संस्थान नहीं है। मंगलवार को आई रिपोर्ट में विश्व के एक हजार विश्वविद्यालयों की गुणवत्ता के आकलन किया गया। 

यह भी पढ़े-  शिक्षकों के लिए सरकार ने लिया बड़ा फैसला, प्रशिक्षण के लिए पंजीकरण कराना है जरूरी


भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों में सबसे बेहतर प्रदर्शन वाले इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस 201-250 की श्रेणी से नीचे गिर गया है। आईआईटी दिल्ली, कानपुर और मद्रास, खड्गपुर, रूड़की भी 401-500 की रैंकिंग पर लुढ़ककर 501 से 600 के दायरे में चाला गया है। आईआईटी बांबे की रैंकिंग भी 351-400 के बीच है। बीएचयू तो 601 से 800 के दायरे में है।  शोध आय और गुणवत्ता के पैमाने पर भारतीय संस्थानों में सुधार पाया गया है। 

यह भी पढ़े- योगी सरकार का फैसला, सरकारी नौकरी के लिए नहीं देना और इंटरव्यूवहीं बैटी ने कहा कि भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों की शोध आय एवं गुणवता सुधार का असर आने वाले वर्षों में दिख सकता है। उन्होंने भारत के 20 विश्वस्तरीय संस्थान तैयार करने की योजना का भी उल्लेख किया।  

Todays Beets: