Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं

अंग्वाल संवाददाता
विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं

नई दिल्ली। दुनिया के शीर्ष उच्च शिक्षा संगठनों की श्रेणी में भारतीय विश्वविद्यालयों का प्रदर्शन सुधरने के बजाय और बिगड़ गया है। टाइम्स हायर एजेकुशन वर्ल्ड यूनिवर्सिटी की 2018 लिस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, विश्व के 250 शीर्ष संस्थानों में एक भी भारतीय संस्थान नहीं है। मंगलवार को आई रिपोर्ट में विश्व के एक हजार विश्वविद्यालयों की गुणवत्ता के आकलन किया गया। 

यह भी पढ़े-  शिक्षकों के लिए सरकार ने लिया बड़ा फैसला, प्रशिक्षण के लिए पंजीकरण कराना है जरूरी


भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों में सबसे बेहतर प्रदर्शन वाले इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस 201-250 की श्रेणी से नीचे गिर गया है। आईआईटी दिल्ली, कानपुर और मद्रास, खड्गपुर, रूड़की भी 401-500 की रैंकिंग पर लुढ़ककर 501 से 600 के दायरे में चाला गया है। आईआईटी बांबे की रैंकिंग भी 351-400 के बीच है। बीएचयू तो 601 से 800 के दायरे में है।  शोध आय और गुणवत्ता के पैमाने पर भारतीय संस्थानों में सुधार पाया गया है। 

यह भी पढ़े- योगी सरकार का फैसला, सरकारी नौकरी के लिए नहीं देना और इंटरव्यूवहीं बैटी ने कहा कि भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों की शोध आय एवं गुणवता सुधार का असर आने वाले वर्षों में दिख सकता है। उन्होंने भारत के 20 विश्वस्तरीय संस्थान तैयार करने की योजना का भी उल्लेख किया।  

Todays Beets: