Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

अध्यापक बनने के लिए अब ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाना नहीं होगा अनिवार्य

अंग्वाल संवाददाता
अध्यापक बनने के लिए अब ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाना नहीं होगा अनिवार्य

नई दिल्ली। स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए अब बीएड के अलावा ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाने की आनिवार्यता नहीं होगी। सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय प्रशिक्षण परिषद (एनसीटीई) से कहा है कि वह एक माह के भीतर यह अधिसूचना जारी करे, जिसमें बीएड कोर्स के लिए ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाने की अनिवार्यता को समाप्त किया जाए। कोर्ट ने यह फैसला यूपी के उन सभी शिक्षामित्रों को ध्यान में रखकर किया है जिन्हें अंक कम होने के कारण नौकरी से हटा दिया गया है। भले ही कोर्ट ने यह फैसला यूपी मामले के सदंर्भ में लिया है लेकिन इसका फायद पूरे देश के युवाओं को मिलेगा। प्रशासन एक महीने के अंदर उनके मामलों पर कानून के अनुसार निर्णय लेगा। न्यायपीठ आर्दश गोयल और यूयू ललित ने उत्तर प्रदेश सरकार समेत केंद्र सरकार को भी यह आदेश दिया है।

यह भी पढ़े- अब जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी इंश्योरेंस विषय में भी करवाएगी MBA कोर्स


बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ याचिका दायर की गई थी। फैसले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एनसीटीई की 29 मई 2011 की अधिसूचना को दी गई चुनौती को खारिज कर दिया था। एनसीटीई ने यह अधिसूचना आरटीई एक्ट 2009 की धारा के तहत जारी किया थी। अधिसूचना में स्कूल में अध्यापक बनने के लिए अन्य योग्यताओं के अलावा ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक होना अनिवार्य कर दिया गया था। यूपी सरकार ने इस सूचना को आधार बनाते हुए ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक न लेने वालों शिक्षकों को नौकरी से हटा दिया था।   

यह भी पढ़े- डीयू ने सभी कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने का दिया आदेश, पढ़े क्या है पूरा मामला...,

Todays Beets: