Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

अध्यापक बनने के लिए अब ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाना नहीं होगा अनिवार्य

अंग्वाल संवाददाता
अध्यापक बनने के लिए अब ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाना नहीं होगा अनिवार्य

नई दिल्ली। स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए अब बीएड के अलावा ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाने की आनिवार्यता नहीं होगी। सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय प्रशिक्षण परिषद (एनसीटीई) से कहा है कि वह एक माह के भीतर यह अधिसूचना जारी करे, जिसमें बीएड कोर्स के लिए ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाने की अनिवार्यता को समाप्त किया जाए। कोर्ट ने यह फैसला यूपी के उन सभी शिक्षामित्रों को ध्यान में रखकर किया है जिन्हें अंक कम होने के कारण नौकरी से हटा दिया गया है। भले ही कोर्ट ने यह फैसला यूपी मामले के सदंर्भ में लिया है लेकिन इसका फायद पूरे देश के युवाओं को मिलेगा। प्रशासन एक महीने के अंदर उनके मामलों पर कानून के अनुसार निर्णय लेगा। न्यायपीठ आर्दश गोयल और यूयू ललित ने उत्तर प्रदेश सरकार समेत केंद्र सरकार को भी यह आदेश दिया है।

यह भी पढ़े- अब जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी इंश्योरेंस विषय में भी करवाएगी MBA कोर्स


बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ याचिका दायर की गई थी। फैसले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एनसीटीई की 29 मई 2011 की अधिसूचना को दी गई चुनौती को खारिज कर दिया था। एनसीटीई ने यह अधिसूचना आरटीई एक्ट 2009 की धारा के तहत जारी किया थी। अधिसूचना में स्कूल में अध्यापक बनने के लिए अन्य योग्यताओं के अलावा ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक होना अनिवार्य कर दिया गया था। यूपी सरकार ने इस सूचना को आधार बनाते हुए ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक न लेने वालों शिक्षकों को नौकरी से हटा दिया था।   

यह भी पढ़े- डीयू ने सभी कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने का दिया आदेश, पढ़े क्या है पूरा मामला...,

Todays Beets: