Wednesday, November 21, 2018

Breaking News

   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||

अध्यापक बनने के लिए अब ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाना नहीं होगा अनिवार्य

अंग्वाल संवाददाता
अध्यापक बनने के लिए अब ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाना नहीं होगा अनिवार्य

नई दिल्ली। स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए अब बीएड के अलावा ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाने की आनिवार्यता नहीं होगी। सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय प्रशिक्षण परिषद (एनसीटीई) से कहा है कि वह एक माह के भीतर यह अधिसूचना जारी करे, जिसमें बीएड कोर्स के लिए ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक लाने की अनिवार्यता को समाप्त किया जाए। कोर्ट ने यह फैसला यूपी के उन सभी शिक्षामित्रों को ध्यान में रखकर किया है जिन्हें अंक कम होने के कारण नौकरी से हटा दिया गया है। भले ही कोर्ट ने यह फैसला यूपी मामले के सदंर्भ में लिया है लेकिन इसका फायद पूरे देश के युवाओं को मिलेगा। प्रशासन एक महीने के अंदर उनके मामलों पर कानून के अनुसार निर्णय लेगा। न्यायपीठ आर्दश गोयल और यूयू ललित ने उत्तर प्रदेश सरकार समेत केंद्र सरकार को भी यह आदेश दिया है।

यह भी पढ़े- अब जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी इंश्योरेंस विषय में भी करवाएगी MBA कोर्स


बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ याचिका दायर की गई थी। फैसले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एनसीटीई की 29 मई 2011 की अधिसूचना को दी गई चुनौती को खारिज कर दिया था। एनसीटीई ने यह अधिसूचना आरटीई एक्ट 2009 की धारा के तहत जारी किया थी। अधिसूचना में स्कूल में अध्यापक बनने के लिए अन्य योग्यताओं के अलावा ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक होना अनिवार्य कर दिया गया था। यूपी सरकार ने इस सूचना को आधार बनाते हुए ग्रेजुएशन में 50 फीसदी अंक न लेने वालों शिक्षकों को नौकरी से हटा दिया था।   

यह भी पढ़े- डीयू ने सभी कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने का दिया आदेश, पढ़े क्या है पूरा मामला...,

Todays Beets: