Saturday, November 17, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

सीबीएसई ने बदला परीक्षा का प्रारूप, अगले साल से 10वीं में लिखित पेपर होगा 80 नंबर का

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सीबीएसई ने बदला परीक्षा का प्रारूप, अगले साल से 10वीं में लिखित पेपर होगा 80 नंबर का

नई दिल्ली।

सीबीएसई ने 10वीं बोर्ड परीक्षा का नया प्रारूप तैयार कर लिया है। अगले साल से सीबीएसई 10वीं को बोर्ड करने वाला है। इसी को लेकर यह प्रारूप तैयार किया गया है। नए प्रारूप के तहत अब 10वीं में स्टूडेंट्स को हर विषय में 80 नंबरों की लिखित परीक्षा देनी होगी। बाकी के 20 अंक अतिरिक्त मूल्यांकन के होंगे। 2018 से 10वीं की परीक्षाएं इसी नए प्रारूप के तहत आयोजित की जाएंगी।

ये भी पढ़ें-  जुलाई में शुरू होने वाले सेशन के लिए इग्नू में दाखिला प्रक्रिया शुरू, 173 कोर्स के लिए आॅनलाइ...

बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि संचालन मंडल ने अपने फैसले में 10वीं के लिए योजना एक और दो को खत्म कर दिया है। नई योजना के तहत परीक्षा प्रारूप भाषा एक, भाषा दो, विज्ञान, गणित और सामाजिक विज्ञान विषय के लिए तैयार किया गया है। इन विषयों में स्टूडेंट्स को 80 नंबरों की लिखित परीक्षा देनी होनी। हर विषय में उन्हें नंबरों के साथ ग्रेड भी दिए जाएंगे।


ये भी पढ़ें-   हाईकोर्ट ने सीबीएसई को दिया निर्देश, संस्थानों में नहीं होंगी वाणिज्यिक गतिविधियां

अनुशासन और क्षमता के अलग से अंक

अधिकारी के अनुसार, नये प्रारूप में 20 अंक अतिरिक्त मूल्यांकन के होंगे, जो स्टूडेंट्स को अलग-अलग गतिविधियों के लिए दिए जाएंगे। इन गतिविधियों में बोलने-सुनने की क्षमता, अनुशासन, प्रयोगशाला में गतिविधि आदि शामिल हैं। नए प्रारूप के तहत विषय को उन्नत बनाने के लिए पांच अंक निर्धारित किए गए हैं। इसके तहत स्टूडेंट्स की बोलने-सुनने की क्षमता, प्रयोगशाला में उसके कार्य, नक्शे से जुड़े कार्यों को समाहित किया गया है। इसके अलावा स्टूडेंट्स को उसके अनुशासन के आधार पर भी अलग से नंबर दिए जाएंगे। अधिकारी ने बताया कि पढ़ाई के साथ स्टूडेंट्स में कौशल विकास और अनुशासन सिखाने के लिए इस तरह का प्रारूप बनाया गया है।

 

Todays Beets: