Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

सीबीएसई ने लिया माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला, अब छात्रों को नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सीबीएसई ने लिया माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला, अब छात्रों को नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

नई दिल्ली। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के तहत शिक्षा हासिल करने वाले छात्रों को अब और मेहनत करनी पड़ेगी। जी हां, बोर्ड ने माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला लिया है। इस नीति के खत्म होने से छात्रों को सवालों के जवाब देने के प्रयास पर ग्रेस मार्क्स नहीं दिए जाएंगे। एक उच्च स्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया है। 

अब नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

गौरतलब है कि सीबीएसई की मॉडरेशन पॉलिसी के मुताबिक, छात्रों को कठिन प्रश्नों को हल करने के प्रयास पर भी 15 प्रतिशत अतिरिक्त अंक दिए जाते थे। पेपर में प्रश्न गलत आने पर भी मॉडरेशन पॉलिसी को फॉलो किया जाता था। इसके तहत उस सवाल के पूरे अंक दिए जाते हैं लेकिन अब बोर्ड ने इस नीति को ही खत्म करने का फैसला लिया है। हां, अगर छात्र कुछ नंबरों से पास होने से रह जाता है तो उसे ग्रेस नंबर दिया जाएगा।

काॅलेजों पर दवाब कम होगा 


ऐसा माना जा रहा है कि 10वीं और 12वीं की परीक्षा में बढ़ते पर्सेंटेज को कम करने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है। आपको बता दें कि माॅडरेशन नीति के तहत छात्रों को 8 से 10 नंबर तक ज्यादा आ जाते हैं। कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए बढ़ती प्रतियोगिता और 95 फीसदी से अधिक नंबर लाने वाले छात्रों की बढ़ती तादाद को देखते हुए इस तरह का फैसला लिया गया है।

मंत्रालय ने स्वीकार किया अनुरोध

आपको बता दें कि मॉडरेशन पॉलिसी को खत्म करने की तैयारी काफी समय से चल रही है। पिछले साल दिसंबर में इस बारे में सीबीएसई ने मानव संसाधन मंत्रालय (एमएचआरडी) से अनुरोध किया था कि मॉडरेशन पॉलिसी को खत्म किया जाए ताकि छात्रों को इसका फायदा मिल सके। छात्रों के हक को देखते हुए मंत्रालय ने सीबीएसई के अनुरोध को मान लिया है। 

Todays Beets: