Sunday, May 27, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

सीबीएसई ने लिया माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला, अब छात्रों को नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सीबीएसई ने लिया माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला, अब छात्रों को नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

नई दिल्ली। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के तहत शिक्षा हासिल करने वाले छात्रों को अब और मेहनत करनी पड़ेगी। जी हां, बोर्ड ने माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला लिया है। इस नीति के खत्म होने से छात्रों को सवालों के जवाब देने के प्रयास पर ग्रेस मार्क्स नहीं दिए जाएंगे। एक उच्च स्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया है। 

अब नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

गौरतलब है कि सीबीएसई की मॉडरेशन पॉलिसी के मुताबिक, छात्रों को कठिन प्रश्नों को हल करने के प्रयास पर भी 15 प्रतिशत अतिरिक्त अंक दिए जाते थे। पेपर में प्रश्न गलत आने पर भी मॉडरेशन पॉलिसी को फॉलो किया जाता था। इसके तहत उस सवाल के पूरे अंक दिए जाते हैं लेकिन अब बोर्ड ने इस नीति को ही खत्म करने का फैसला लिया है। हां, अगर छात्र कुछ नंबरों से पास होने से रह जाता है तो उसे ग्रेस नंबर दिया जाएगा।

काॅलेजों पर दवाब कम होगा 


ऐसा माना जा रहा है कि 10वीं और 12वीं की परीक्षा में बढ़ते पर्सेंटेज को कम करने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है। आपको बता दें कि माॅडरेशन नीति के तहत छात्रों को 8 से 10 नंबर तक ज्यादा आ जाते हैं। कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए बढ़ती प्रतियोगिता और 95 फीसदी से अधिक नंबर लाने वाले छात्रों की बढ़ती तादाद को देखते हुए इस तरह का फैसला लिया गया है।

मंत्रालय ने स्वीकार किया अनुरोध

आपको बता दें कि मॉडरेशन पॉलिसी को खत्म करने की तैयारी काफी समय से चल रही है। पिछले साल दिसंबर में इस बारे में सीबीएसई ने मानव संसाधन मंत्रालय (एमएचआरडी) से अनुरोध किया था कि मॉडरेशन पॉलिसी को खत्म किया जाए ताकि छात्रों को इसका फायदा मिल सके। छात्रों के हक को देखते हुए मंत्रालय ने सीबीएसई के अनुरोध को मान लिया है। 

Todays Beets: