Tuesday, October 23, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

सीबीएसई ने लिया माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला, अब छात्रों को नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सीबीएसई ने लिया माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला, अब छात्रों को नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

नई दिल्ली। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के तहत शिक्षा हासिल करने वाले छात्रों को अब और मेहनत करनी पड़ेगी। जी हां, बोर्ड ने माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला लिया है। इस नीति के खत्म होने से छात्रों को सवालों के जवाब देने के प्रयास पर ग्रेस मार्क्स नहीं दिए जाएंगे। एक उच्च स्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया है। 

अब नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

गौरतलब है कि सीबीएसई की मॉडरेशन पॉलिसी के मुताबिक, छात्रों को कठिन प्रश्नों को हल करने के प्रयास पर भी 15 प्रतिशत अतिरिक्त अंक दिए जाते थे। पेपर में प्रश्न गलत आने पर भी मॉडरेशन पॉलिसी को फॉलो किया जाता था। इसके तहत उस सवाल के पूरे अंक दिए जाते हैं लेकिन अब बोर्ड ने इस नीति को ही खत्म करने का फैसला लिया है। हां, अगर छात्र कुछ नंबरों से पास होने से रह जाता है तो उसे ग्रेस नंबर दिया जाएगा।

काॅलेजों पर दवाब कम होगा 


ऐसा माना जा रहा है कि 10वीं और 12वीं की परीक्षा में बढ़ते पर्सेंटेज को कम करने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है। आपको बता दें कि माॅडरेशन नीति के तहत छात्रों को 8 से 10 नंबर तक ज्यादा आ जाते हैं। कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए बढ़ती प्रतियोगिता और 95 फीसदी से अधिक नंबर लाने वाले छात्रों की बढ़ती तादाद को देखते हुए इस तरह का फैसला लिया गया है।

मंत्रालय ने स्वीकार किया अनुरोध

आपको बता दें कि मॉडरेशन पॉलिसी को खत्म करने की तैयारी काफी समय से चल रही है। पिछले साल दिसंबर में इस बारे में सीबीएसई ने मानव संसाधन मंत्रालय (एमएचआरडी) से अनुरोध किया था कि मॉडरेशन पॉलिसी को खत्म किया जाए ताकि छात्रों को इसका फायदा मिल सके। छात्रों के हक को देखते हुए मंत्रालय ने सीबीएसई के अनुरोध को मान लिया है। 

Todays Beets: