Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

सीबीएसई ने लिया माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला, अब छात्रों को नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सीबीएसई ने लिया माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला, अब छात्रों को नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

नई दिल्ली। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के तहत शिक्षा हासिल करने वाले छात्रों को अब और मेहनत करनी पड़ेगी। जी हां, बोर्ड ने माॅडरेशन नीति को खत्म करने का फैसला लिया है। इस नीति के खत्म होने से छात्रों को सवालों के जवाब देने के प्रयास पर ग्रेस मार्क्स नहीं दिए जाएंगे। एक उच्च स्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया है। 

अब नहीं मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

गौरतलब है कि सीबीएसई की मॉडरेशन पॉलिसी के मुताबिक, छात्रों को कठिन प्रश्नों को हल करने के प्रयास पर भी 15 प्रतिशत अतिरिक्त अंक दिए जाते थे। पेपर में प्रश्न गलत आने पर भी मॉडरेशन पॉलिसी को फॉलो किया जाता था। इसके तहत उस सवाल के पूरे अंक दिए जाते हैं लेकिन अब बोर्ड ने इस नीति को ही खत्म करने का फैसला लिया है। हां, अगर छात्र कुछ नंबरों से पास होने से रह जाता है तो उसे ग्रेस नंबर दिया जाएगा।

काॅलेजों पर दवाब कम होगा 


ऐसा माना जा रहा है कि 10वीं और 12वीं की परीक्षा में बढ़ते पर्सेंटेज को कम करने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है। आपको बता दें कि माॅडरेशन नीति के तहत छात्रों को 8 से 10 नंबर तक ज्यादा आ जाते हैं। कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए बढ़ती प्रतियोगिता और 95 फीसदी से अधिक नंबर लाने वाले छात्रों की बढ़ती तादाद को देखते हुए इस तरह का फैसला लिया गया है।

मंत्रालय ने स्वीकार किया अनुरोध

आपको बता दें कि मॉडरेशन पॉलिसी को खत्म करने की तैयारी काफी समय से चल रही है। पिछले साल दिसंबर में इस बारे में सीबीएसई ने मानव संसाधन मंत्रालय (एमएचआरडी) से अनुरोध किया था कि मॉडरेशन पॉलिसी को खत्म किया जाए ताकि छात्रों को इसका फायदा मिल सके। छात्रों के हक को देखते हुए मंत्रालय ने सीबीएसई के अनुरोध को मान लिया है। 

Todays Beets: