Friday, December 15, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्र हो जाएं अलर्ट, सीबीएसई इस बार फरवरी में ही आयोजित करेगी परीक्षा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्र हो जाएं अलर्ट, सीबीएसई इस बार फरवरी में ही आयोजित करेगी परीक्षा

नई दिल्ली। बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों को लेकर हमेशा से उलझन रही है। वहीं परीक्षा की लंबी अवधि की वजह से कई बार छात्रों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। छात्रों की परेशानियों को दूर करने के लिए सीबीएसई एक बड़ा कदम उठाने जा रही है। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) 2017-18 से बोर्ड परीक्षाएं फरवरी में ही आयोजित करने की तैयारी में है। इसके साथ ही परीक्षा के समयावधि को कम करने के बारे में भी विचार किया जा रहा है।

परीक्षा की अवधि को कम करने पर विचार

गौरतलब है कि पहले सीबीएसई की परीक्षा करीब 45 दिनों तक चलती थी। इस अवधि को कमकर अब 30 दिन करने पर विचार किया जा रहा है। अभी सीबीएसई बोर्ड परीक्षाएं मार्च की शुरुआत में होती हैं। अब इसे एक महीने पहले यानी कि फरवरी में कराने का फैसला लिया जा रहा है।  


ये भी पढ़ें - पायलट बनने के इच्छुक नौजवानों के लिए सुनहरा अवसर, पहली बार शुरू होगा हेलीकाॅप्टर कमर्शियल पाय...

सही मूल्यांकन है मकसद

आपको बता दें कि सीबीएसई का मानना है कि अप्रैल महीने में छुट्टियों के कारण छात्रों की काॅपियों के मूल्यांकन के लिए अनुभवी शिक्षक उपलब्ध नहीं हो पाते हैं। इस वजह से भी परीक्षा को पहले कराने पर विचार किया जा रहा है ताकि छात्रों को किसी तरह का नुकसान नहीं हो। वहीं दूसरी तरफ परीक्षाएं जल्दी खत्म होने से उनके परिणाम भी जल्दी आ जाएंगे। ऐसे में छात्रों को काॅलेजों में सही वक्त पर दाखिला मिल पाएगा।

Todays Beets: