Sunday, February 18, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

इंजीनियरिंग से पहले छात्रों को अंग्रेजी सिखाएगा यह काॅलेज, सप्ताहांत में लगेगी क्लास

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इंजीनियरिंग से पहले छात्रों को अंग्रेजी सिखाएगा यह काॅलेज, सप्ताहांत में लगेगी क्लास

देहरादून। राज्य में इंजीनियरिंग करने आने वाले छात्रों को इंजीनियरिंग कोर्स से पहले अंग्रेजी सिखाई जाएगी। जी हां, पौड़ी-गढ़वाल में स्थित जीबी पंत इंजीनियरिंग काॅलेज अब इंजीनियरिंग करने आने वाले छात्र-छात्राओं को इंजीनियरिंग से पहले अंग्रेजी में निपुण करेगा। बता दें कि काॅलेज में दाखिला लेने वाले अधिकतर छात्र ग्रामीण परिवेश में आते हैं। ऐसे में उनकी अंग्रेजी काफी कमजोर होती है जिससे वे इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी नहीं कर पाते हैं। काॅलेज के छात्रों के परिणाम अच्छे हों इसी मकसद से यह कदम उठाया गया है। 

कोर्स काउंसलर का होगा चयन

गौरतलब है कि जीबी पंत इंजीनियरिंग काॅलेज में नए सत्र में दाखिला लेने वाले छात्र-छात्राओं को 6 महीने तक अंग्रेजी भाषा सिखाई जाएगी ताकि उनकी अंग्रेजी में अच्छी पकड़ बन सके। इसके लिए काॅलेज की ओर से कोर्स काउंसलर का चयन किया जाएगा। कोर्स काउंसलर हर शनिवार और रविवार को अलग क्लास लगाकर ऐसे छात्रों को अंग्रेजी सिखाएगा। इससे एक तो उनकी अंग्रेजी में सुधार होगा वहीं उनका व्यक्तिगत विकास भी होगा।

ये भी पढ़ें - प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत रोजगार देने में उत्तराखंड पूरे देश में अव्वल - हरीश रावत


खर्च काॅलेज वहन करेगा

काॅलेज के रजिस्ट्रार संदीप कुमार ने बताया कि अब तक देखा गया है कि शहरों के मुकाबले ग्रामीण छात्र-छात्राओं की अंग्रेजी कमजोर होती है। ऐसे में वे समय पर इंजीनियरिंग का कोर्स पूरा नहीं कर पाते हैं। अंग्रेजी में कमजोर होने के कारण उनका व्यक्तिगत विकास भी कम होता है, इसलिए यदि अंग्रेजी में कमजोर छात्रों को पहले ही अंग्रेजी भाषा का ज्ञान मिल जाए तो वह अन्य बच्चों की बराबरी कर अच्छे परिणाम हासिल कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि काॅलेज फंड से ही ऐसे छात्रों को कोर्स करवाया जाएगा। 

Todays Beets: