Wednesday, August 23, 2017

Breaking News

   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||   SC में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए याचिका दायर, कोर्ट ने दिया केंद्र को नोटिस    ||   राज्यसभा में सिब्बल बोले- छप रहे 1 नंबर के दो नोट, सदी का सबसे बड़ा घोटाला    ||   नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का आज होगा विस्तार, शपथ ले सकते हैं 16 मंत्री    ||   सपा को तगड़ा झटका, बुक्कल नवाब समेत 2 MLC का इस्तीफा, की मोदी-योगी की तारीफ    ||   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||

हाईकोर्ट ने सीबीएसई को दिया मॉडरेशन पॉलिसी खत्म न करने का आदेश, कहा-खेल शुरू होने के बाद नियम न बदलें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने सीबीएसई को दिया मॉडरेशन पॉलिसी खत्म न करने का आदेश, कहा-खेल शुरू होने के बाद नियम न बदलें

नई दिल्ली।

सीबीएसई की बोर्ड परीक्षा देने वाले लाखों छात्रों के लिए राहत की खबरहै। छात्रोंको बोर्ड परीक्षा परिणामों में अब ग्रेस माक्र्स इस साल और मिलेंगे। दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीएसई के मॉडरेशन पॉलिसी खत्म करने के फैसले पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने अपने फैसले में बोर्ड को 15 फीसदी अतिरिक्त अंक देने की नीति को इस साल भी बहाल रखने का निर्देश दिया।

ये भी पढ़ें- एनसीईआरटी की किताबों में अब नहीं पढ़ाया जाएगा गुजरात दंगों को मुस्लिम विरोधी

बता दें कि सीबीएसई ने मॉडरेशन पॉलिसी खत्म करने की अधिसूचना बोर्ड परीक्षा के बाद जारी की थी, जिसका न केवल छात्रों, बल्कि अभिभावकों ने भी विरोध किया था। उनका कहना था कि अगर यह पॉलिसी खत्म करनी थी, तो इसकी सूचना परीक्षा से पहले दी जानी चाहिए थी। अब इसे अगले सत्र से लागू की जाए। इसी को लेकर उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसके बाद कोर्ट ने मॉडरेशन पॉलिसी इस सत्र  में और जारी रखने का निर्देश दिया है।

ये भी पढ़ें-सीबीएसई ने बदला परीक्षा का प्रारूप, अगले साल से 10वीं में लिखित पेपर होगा 80 नंबर का

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि अचानक से बोर्ड बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकता, जिन बच्चों ने परीक्षा दी है, उन्हें ग्रेस माक्र्स दिए जाने चाहिए। ऐसा न करने पर अगर कोई बच्चा किसी यूनिवर्सिटी में दाखिले से चूक गया, तो यह उसके लिए तबाही होगी। इसलिए सीबीएसई इस साल भी मॉडरेशन पॉलिसी जारी रखे। इसके बाद बोर्ड आज शाम तक इस बारे में फैसला करेगा। उम्मीद है कि रिजल्ट जल्द ही आ सकता है।

ये भी पढ़ें-अब कक्षा पांच के बाद मानकों पर खरा न उतरने वाले छात्र होंगे फेल, मंत्रालय ने किया विधेयक तैयार


क्या है मॉडरेशन पॉलिसी

अन्य  शिक्षा बोर्डों की तरह सीबीएसई भी अपने छात्रों को ग्रेस मार्क्स देता है। ये ग्रेस मार्क्स परीक्षा में पूछे गए कठिन सवालों  के लिए दिए जाते हैं। बोर्ड यदि किसी खास प्रश्नपत्र में ये समझता है कि पूछे गए सवाल कठिन हैं, तो वह 10 से 15 फीसदी तक ग्रेस मार्क्स छात्रों को देता है। इस अतिरिक्त अंक नीति को ही मॉडरेशन पॉलिसी कहते हैं।

ये भी पढ़ें-NEET परीक्षा के दौरान छात्राओं से उतरवाए गए अंडरगारमेंट, तो कहीं काटी शर्ट की आस्तीन

 

एक नजर यहां भी...

 

Todays Beets: