Wednesday, August 23, 2017

Breaking News

   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||   SC में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए याचिका दायर, कोर्ट ने दिया केंद्र को नोटिस    ||   राज्यसभा में सिब्बल बोले- छप रहे 1 नंबर के दो नोट, सदी का सबसे बड़ा घोटाला    ||   नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का आज होगा विस्तार, शपथ ले सकते हैं 16 मंत्री    ||   सपा को तगड़ा झटका, बुक्कल नवाब समेत 2 MLC का इस्तीफा, की मोदी-योगी की तारीफ    ||   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||

रिन्यूबल एनर्जी मैनेजमेंट कर अपने करियर को दें नई ऊंचाई 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रिन्यूबल एनर्जी मैनेजमेंट कर अपने करियर को दें नई ऊंचाई 

नई दिल्ली।

आज जिस तेजी से दुनिया विकास कर रही है उसमें ऊर्जा की काफी जरूरत है। किसी भी नए प्रोजेक्ट के शुरू होने से पहले उसमें सौर ऊर्जा की संभावना को जरूर देखा जाता है। बढ़ती जरूरतों के हिसाब से पर्यावरण सुरक्षा भी एक मुद्दा बन गया। इस वजह से कई नए प्रोजेक्ट अटके पड़े हैं। ऊर्जा प्रबंधन के क्षेत्र में नौजवानों के लिए करियर की भी काफी संभावना है। आइए हम आपको बताते हैं कि ऊर्जा प्रबंधन कर आप किस तरह से अपने भविष्य को एक नई ऊंचाई दे सकते हैं। 

गौरतलब है कि पूरी दुनिया में बायोफ्यूल की मात्रा लगातार घटती जा रही है। ऐसे में ऊर्जा प्रबंधन की आवश्यकता है। इसके लिए प्राईवेट कंपनियों के साथ सरकारी कंपनियां भी इस पर काफी जोर दे रही है। समय के साथ-साथ ऊर्जा की मांग दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इसलिए ऊर्जा के अतिरिक्त श्रोतों यानी वैकल्पिक ऊर्जा, सौर ऊर्जा, विंड एनर्जी, बायो एनर्जी, हाइड्रो एनर्जी आदि पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

आपको बता दें कि पर्यावरण के मुद्दों को देखते हुए भारत ने रिन्यूएबल एनर्जी के क्षेत्र में महत्वाकांक्षी योजना बना रखी है, क्योंकि सरकार का इरादा अगले साल तक 55 हजार मेगावॉट बिजली उत्पादन का है। कॉरपोरेट कंपनियां भी इस क्षेत्र में निवेश कर रही हैं। ऐसे में इस क्षेत्र में रोजगार की संभावना भी काफी है। 

क्या होती है रिन्यूएबल एनर्जी मैनेजमेंट

गौरतलब है कि मौजूदा प्रौद्योगिकी और नई तकनीक को मिलाकर रिन्यूएबल एनर्जी (अक्षय ऊर्जा) के उत्पादन पर जोर दिया जा रहा है ताकि बिजली की मांग की पूर्ति भी हो जाए और करोड़ों रुपये की बचत भी हो जाए। ऐसे में सरकार भी रिन्यूएबल एनर्जी को बढ़ाने में जुटी है। ऊर्जा को कैसे बचाया जाए इसके लिए संस्थान से कोर्स किया जा सकता है।

ऊर्जा प्रबंधन के क्षेत्र में जो भी कोर्स हैं, वे पीजी अथवा मास्टर लेवल के हैं। छात्र उन्हें तभी कर सकते हैं, जब उन्होंने किसी विश्वविद्यालय या मान्यताप्राप्त संस्थान से बीटेक, बीई या बीएससी किया हो। भौतिकी से स्नातकोत्तर करने वाले छात्रों को यह क्षेत्र काफी रास आता है। 

कौन से हैं प्रमुख कोर्स

एमएससी इन रिन्यूएबल एनर्जी

एमएससी इन फिजिक्स/एनर्जी स्टडीज

एमटेक इन एनर्जी स्टडीज

एमटेक इन एनर्जी मैनेजमेंट

एमटेक इन एनर्जी टेक्नोलॉजी

एमटेक इन रिन्यूएबल एनर्जी मैनेजमेंट

एमई इन एनर्जी इंजीनियरिंग


पीजी डिप्लोमा इन एनर्जी मैनेजमेंट

एमबीए इन रिन्यूएबल एनर्जी मैनेजमेंट

एमफिल इन एनर्जी

वेतनमान

इस क्षेत्र में डिप्लोमा करने वाले नौजवानों को नौकरी की शुरुआत में ही 25 से 30 हजार रुपये मिलने लगता है। अनुभव होने के साथ आमदनी बढ़ती जाती है। 

इन संस्थानों से करें मैनेजमेंट

- यूनिवर्सिटी ऑफ लखनऊ, लखनऊवेबसाइट- www-lkouniv-ac-in

- यूनिवर्सिटी ऑफ पुणे, पुणेवेबसाइट- www-unipune-ac-in

- आईआईटी दिल्ली, नई दिल्लीवेबसाइट- www-iitd-ac-in 

- नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, तिरुचिरापल्लीवेबसाइट- www-nitt-edu

- राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, भोपालवेबसाइट- www-rgpv-ac-in

- इलाहाबाद एग्रीकल्चर इंस्टीट्यूट (डीम्ड यूनिवर्सिटी), इलाहाबादवेबसाइट- www-shiats-edu-in

- पेट्रोलियम कंजर्वेशन रिसर्च एसोसिएशन, नई दिल्लीवेबसाइट- www-pcra-org  

 

Todays Beets: