Wednesday, November 21, 2018

Breaking News

   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||

डीयू ने सभी कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने का दिया आदेश, पढ़े क्या है पूरा मामला...,

अंग्वाल संवाददाता
डीयू ने सभी कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने का दिया आदेश, पढ़े क्या है पूरा मामला...,

नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय के 70 से ज्यादा कॉलेजों ने पिछली बार शिक्षकों की नियुक्ति के लिए विज्ञापन जारी किए थे, लेकिन कॉलेजों की तरफ से उन विज्ञापित पदों पर इंटरव्यू नहीं लिये गए। इन विज्ञापित नियुक्तियों पर करीब 2 लाख लोगों ने अपलाई किया था। इस मामले पर अब डीयू के जॉइंट रजिस्ट्रार ने सभी कॉलेजों को लेटर लिखकर विवाद खड़ा न करने को कहा है। साथ ही कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने के लिए भी कह दिया गया है। आवेदन की यह फीस 250 से 500 रुपये थी।

 


 

बता दें कि हर कॉलेज ने 15 से 20 विषयों के लिए आवेदन मांगे थे। बड़ी संख्या में लोगों ने इन नियुक्ति के लिए आवेदन किए थे, लेकिन कुछ समस्याओं के चलते इंटरव्यू नहीं हो पाए थे। ऐकडेमिक काउंसिल के सदस्य डॉ हंसराज ने बताया कि इस पूरे मामले को काउंसिल की बैठक में उठाया गया था। यह बात वर्ष 2015 की है, हर कॉलेज के पास 20 से 25 लाख रुपये आवेदन फीस के जमा हो गए थे। कॉलेजों ने यह भी साफ नहीं किया था कि एकत्रित हुए फीस को फंड को कॉलेज के अकाउंट में रखा गया था या नहीं।

Todays Beets: