Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

अच्छी शिक्षा की कमी में पहाड़ो के स्कूल हो रहे खाली, कई स्कूलों में आते हैं मात्र 2-3 छात्र

अंग्वाल संवाददाता
अच्छी शिक्षा की कमी में पहाड़ो के स्कूल हो रहे खाली, कई स्कूलों में आते हैं मात्र 2-3 छात्र

देहरादून। जहां एक तरफ प्रदेश सरकार पहाड़ों से हो रहा पलायन रोकने को लेकर चिंता जाहिर कर रही है, वहीं दूसरी ओर बच्चों की परविश और अच्छी शिक्षा के चलते गांव खाली हो रहे हैं। गांव में बच्चों की मस्ती ओर शोर-शराबा के बजाय अब सनाटा सुनने को मिलता है। कई गांवों में अब न तो कोई बच्चा है और ना ही कोई जवान। रिपोर्ट के मुताबिक, अबतक चमोली जिले के 12 सरकारी स्कूल पर ताले लग गए है। गांव के बच्चे नजदीकी शहरों में इंग्लिश मीडियम स्कूल में पढ़ने जा रहे हैं। स्कूल में बच्चें न होने का कारण प्राथमिक और जूनियर स्कूल बंद होने की कगार पर हैं। रिपोर्ट के अनुसार, वर्तमान में चमोली के 9 विकासखंडों में कुल 972 प्राथमिक और 207 जूनियर स्कूल ही चल रहे हैं।

यह भी पढ़े- विदेश में पढ़ाई करने का सपना अब होगा पूरा, इन जगहों पर फ्री में मिलती है हायर एजुकेशन

 


इतना ही नहीं कई स्कूल ऐसे भी है जहां केवल 2-3 छात्र पढ़ने आते हैं। हर साल लगातार प्राथमिक स्कूलों में छात्रों की कम होती संख्या के कारण सरकारी स्कूलों की पढ़ाई पर भी सवाल उठ रहा हैं। लोगों का कहना है कि गांव के स्कूलों में नियुक्त टीचर भी गांव में नही रहना चाहते हैं। वह शहरों में कमरे लेकर रह रहे हैं, जिसके कारण वह स्कूल देर से पहुंचते हैं। इससे बच्चों की पढ़ाई काफी प्रभावित होती है। कुछ लोगों का तो कहना है कि सरकार को सरकारी स्कूलों का निजीकरण कर देना चाहिए।

 

यह भी पढ़े-  प्राईवेट स्कूलों को खाली सीटों की जानकारी पब्लिक करने का दिया गया आदेश

Todays Beets: