Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

हाईकोर्ट ने सीबीएसई को दिया निर्देश, संस्थानों में नहीं होंगी वाणिज्यिक गतिविधियां

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने सीबीएसई को दिया निर्देश, संस्थानों में नहीं होंगी वाणिज्यिक गतिविधियां

नई दिल्ली। देश में आज ज्यादातर स्कूलों में निजी पब्लिशर की किताबें चलाई जा रही है। इसमें ज्यादातर प्राईवेट स्कूल, छात्रों को अपने ही परिसरों से स्कूल यूनिफाॅर्म और किताबें लेने के लिए कहता है। यहां बता दें कि कई राज्यों की सरकार स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबें चलाने की बात कर चुकी है। अब दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीएसई को इस बात के निर्देश दिए हैं कि उससे संबंद्ध विद्यालय अपने परिसरों में किताबों और यूनिफार्म की बिक्री जैसे वाणिज्यिक गतिविधियों में शामिल ना हों।

पब्लिशर से मिलीभगत

गौरतलब है कि आज देश के ज्यादातर प्राईवेट स्कूलों में स्कूल प्रशासन और प्राईवेट पब्लिशर की साठगांठ का खामियाजा छात्रों और अभिभावकों को भुगतना पड़ रहा है। आज सभी प्राईवेट स्कूल चाहे वह छोटा हो या बड़ा, हर स्कूल छात्रों और अभिभावकों को अपने स्कूलों से ही ड्रेस और किताबें खरीदने को कहती हैं। ऐसे में अभिभावकों की जेब पर अतिरिक्त बोझ पड़ता है। ऐसे अभिभावकों को राहत देते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीएसई को इस बात के निर्देश दिए हैं कि वह इस बात को साफ करे कि उससे संबद्ध संस्थानों में किसी भी तरह की वाणिज्यिक गतिविधियां न हो।   


ये भी पढ़ें - जीएसटी बिल उत्तराखंड विधानसभा में हुआ पास, सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

जनहित याचिका पर हुई सुनवाई

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति अनु मल्होत्रा की पीठ ने  कहा कि सीबीएसई ने हाल ही में इस आशय का परिपत्र जारी किया है। पीठ ने कहा, ‘‘हम सीबीएसई को निर्देश देते हैं कि वह यह सुनिश्चित करे कि संस्थान कानून सम्मत तरीके से परिपत्र को कड़ाई से लागू करे। इसके साथ ही हम याचिका का निपटारा कर रहे हैं।’’ न्यायालय ने सामाजिक कार्यकर्ता सुनील पोखरियाल की जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद ये निर्देश दिया। 

Todays Beets: