Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

HRD का केंद्रीय विश्वविद्यालयों को नोटिस, पूर्व शिक्षकों को किया जाए नियुक्त 

अंग्वाल संवाददाता
HRD का केंद्रीय विश्वविद्यालयों को नोटिस, पूर्व शिक्षकों को किया जाए नियुक्त 

नई दिल्ली। केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की कमी को पूरा करने के लिए सेवानिवृत्त शिक्षकों को तैनात किया जाएगा। हालांकि विश्वविद्यालयों को कहा गया है कि वे रेगुलर भर्ती प्रक्रिया में तेजी लाएं, लेकिन साथ ही आदेश में कहा गया है कि केवल उन्हीं सेवानिवृत शिक्षकों को तैनात किया जाए जो शारीरिक रूप से स्वस्थ हों। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार, गत बुधवार को इस संदर्भ में विश्वविद्यालयों को निर्देश जारी किए गए हैं। दरअसल, केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के करीब 40 फीसदी पद खाली हैं, जिन पर लंबे समय से नियुक्तियां नहीं हुई हैं। 

यह भी पढ़े- विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं


मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि विश्वविद्यालय तत्काल शिक्षकों की कमी को पूरा करने के लिए पूर्व सेवीनिवृत शिक्षकों को खाली पदों पर तैनात करें। साथ ही उनके मेडिकल टेस्ट के आधार पर केवल कांट्रेक्ट पर ही भर्ती दें। नियुक्ति एक-एक साल के लिए होगी और हर साल स्वास्थय ठीक होने पर ही इसे विस्तारित किया जाएगा। मंत्रालय ने पहले ही आईआईटी और आईआईएम जैसे शीर्ष संस्थानों को 70 साल की उम्र तक शिक्षकों की सेवाएं लेने की अनुमति दे रखी है। शिक्षकों की सेवानिवृत्ति की आयु आईआईटी और केंद्रीय विश्वविद्यालयों में 65 साल है, लेकिन अब आईआईटी के फार्मूले को केंद्रीय विश्वविद्यालयों के शिक्षकों को भी 70 साल की उम्र तक पढ़ाने की अनुमति दी जाएं, लेकिन शर्त है कि उनकी सेहत सही रहे। 

Todays Beets: