Monday, May 28, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

बदलाव : एनसीईआरटी की किताबों में अब नहीं पढ़ाया जाएगा गुजरात दंगों को मुस्लिम विरोधी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बदलाव : एनसीईआरटी की किताबों में अब नहीं पढ़ाया जाएगा गुजरात दंगों को मुस्लिम  विरोधी

नई दिल्ली।

एनसीईआरटी की कक्षा12वीं की किताबों में बदलाव किया गया है। अब कक्षा 12वीं की किताब में गुजरात दंगों को मुस्लिम विरोधी नहीं बताया जाएगा। यह फैसला कोर्स रिव्यू कमेटी में लिया गया। एनसीईआरटी की 12वीं कक्षा की पॉलिटिकल साइंस की किताब  Politics In India Since Independence....  के पेज नंबर 187 पर Anti—Muslim riots in Gujarat हेडिंग के साथ बच्चों को जानकारी दी जा रही थी। कमेटी में फैसला किया गया कि अब इन दंगों को गुजरात दंगा के नाम से पढ़ाया जाएगा।  बता दें कि 2007 में यूपीए शासनकाल के दौरान किताब में यह चैप्टर शामिल किया गया था।

ये भी पढ़ें- सुरक्षा व्यवस्था : हवाई अड्डों की सुरक्षा में लगे सीआईएसएफ के जवान ड्यूटी के दौरान नहीं जा पाएंगे टॉयलेट, मोबाइल फोन रखने पर भी प्रतिबंध

एनसीईआरटी ने किताबों के बदलाव पर कहा कि यह कदम किताबों को अपडेट रखने का नियमित काम है। एनसीईआरटी के एक अधिकारी ने कहा कि सीबीएसई द्वारा उठाए गए प्वाइंट्स को भी एनसीईआरटी ने शामिल किया है। उन्होंने कहा कि किताबों में यह बदलाव कर दिए जाएंगे और साल के आखिर में किताबों के फिर से छपने के बाद यह देखने को मिलेंगे। उन्होंने कहा कि एनसीईआरटी सभी किताबों की समीक्षा कर रही है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि नवीनतम घटनाक्रम उसमें शामिल हो सकें।


ये भी पढ़ें- जाधव मामले में पाक की नई लीगल टीम में जर्मन ज्यूरिस्ट भी, कश्मीर मुद्दे पर भी राग अलापेगी नई टीम

गौरतलब है कि गुजरात दंगे सबसे भीषण दंगे माने जाते हैं। फरवरी-मार्च 2002 में हुए  इन दंगों में 800 मुसलमान और 250 हिंदू मारे गए थे। ये दंगे 27 फरवरी को गोधरा में 57 कारसेवकों की मौत के बाद भड़के थे।  इससे एक हफ्ते पहले ही एनसीईआरटी ने 12वीं कक्षा की राजनीति-विज्ञान की पाठ्य-पुस्तक से पूर्वी एवं दक्षिण-पूर्व एशिया के मानचित्र को बदलने का फैसला किया था। इस मानचित्र में अक्साई चिन को कथित रूप से विवादित क्षेत्र के तौर पर दिखाया गया है।

 

Todays Beets: