Sunday, February 18, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

अब उर्दू में होंगी नीट की परीक्षा, सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र और सीबीएसई को दिए आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब उर्दू में होंगी नीट की परीक्षा, सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र और सीबीएसई को दिए आदेश

नई दिल्ली।  नीट की परीक्षा देने वाले मुस्लिम छात्रों के लिए अच्छी खबर है। सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र और सीबीएसई को 2018-19 में होने वाली नीट की परीक्षा में उर्दू को भी शामिल करने के आदेश दिए हैं। हालांकि इस बार होने वाली परीक्षा में उर्दू शामिल नहीं होगी। सीबीएसई ने कहा कि इस बार नीट की परीक्षा 7 मई को होने वाली है और इसके लिए सभी तैयारियां कर ली गई हैं। ऐसे में सिर्फ 11 हजार छात्रों के लिए इस बार इसे लागू करना मुश्किल है। इसे अगले साल से लागू करने पर विचार किया जाएगा।

सुप्रीम कोर्ट में दायर की थी याचिका

गौरतलब है कि नीट की परीक्षा उर्दू में कराने को लेकर एक इस्लामिक स्टूडेंट आॅर्गेनाइजेशन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इस पर सुनवाई चल रही है। सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार, मेडिकल काउंसिल आॅफ इंडिया, डीसीआई और सीबीएसई को नोटिस जारी कर 10 मार्च तक जवाब देने को कहा था। आपको बता दें कि नीट की परीक्षा अभी तक हिंदी, इंग्लिश, गुजराती, मराठी, उड़िया, बंगला, असमी, तेलगु, तमिल और कन्नड़ में होती है।

अब राज्यों से उठी मांग


याचिकाकर्ता ने कोर्ट में कहा था कि अभी मेडिकल काउंसिल आॅफ इंडिया और सीबीएसई ये कह रहे थे कि किसी भी राज्य ने उर्दू में परीक्षा कराने की मांग नहीं की है। अब महाराष्ट्र और तेलंगाना जैसे राज्यों से इसकी मांग उठने लगी है।  इसके अलावा कुछ और भी राज्य हैं जो इस पर विचार कर रहे हैं।

अगले साल से उर्दू में होंगे प्रश्नपत्र

याचिकाकर्ता ने कोर्ट में ये भी कहा कि मेडिकल काउंसिल आॅफ इंडिया ने कहा था कि अगर कोई राज्य सरकार इसकी मांग करेगा तो वो विचार करेंगे। ऐसे में अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अगले साल से छात्र उर्दू में भी नीट की परीक्षा दे सकेंगे।    

Todays Beets: