Thursday, August 24, 2017

Breaking News

   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||   SC में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए याचिका दायर, कोर्ट ने दिया केंद्र को नोटिस    ||   राज्यसभा में सिब्बल बोले- छप रहे 1 नंबर के दो नोट, सदी का सबसे बड़ा घोटाला    ||   नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का आज होगा विस्तार, शपथ ले सकते हैं 16 मंत्री    ||   सपा को तगड़ा झटका, बुक्कल नवाब समेत 2 MLC का इस्तीफा, की मोदी-योगी की तारीफ    ||   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||

डीयू के सिख कॉलेजों में कोटे से दाखिले के लिए कड़े हैं नियम, दाढ़ी रखना जरूरी, नहीं चलेगी स्कर्ट-केप्री

अंग्वाल न्यूज डेस्क
डीयू के सिख कॉलेजों में कोटे से दाखिले के लिए कड़े हैं नियम, दाढ़ी रखना जरूरी, नहीं चलेगी स्कर्ट-केप्री

नई दिल्ली । दिल्ली यूनिवर्सिटी में दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसी क्रम में डीयू के सिख कॉलेजों में भी दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो गई है, जहां सिख छात्र-छात्राओं के लिए अलग से कोटा होता है। लेकिन इन कॉलेजों में दाखिला लेना कोई आसान काम नहीं है। क्या आप जानते हैं कि इन कॉलेजों में दाखिले के लिए सिख छात्रों को कुछ नियमों का पालन करना ही होता है। एसजीटीबी को छोड़कर डीयू से जुड़े सभी सिख कॉलेजों में 50 फीसदी सीटें आरक्षित होती हैं। इतना ही नहीं अगर इनमें माइनॉरिटी सर्टिफिकेट लगा दिया जाए तो छूट 5 फीसदी और बढ़ जाती है।

भले ही सिख छात्रों को इन कॉलेजों में दाखिला मिलने में आरक्षण मिल जाता हो लेकिन ऐसे सिख छात्रों को दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी से माइनॉरिटी सर्टिफिकेट बनवाना पड़ता है। हालांकि किसी भी छात्र को यह सर्टिफिकेट देने से पहले उन्हें कुछ नियमों का पालन करना ही होता है। कमेटी ऐसे छात्रों को अपने मापदंडो पर परखती है, इसके बाद जाकर कहीं सर्टिफिकेट बनता है। तो चलिए हम बताते हैं कि आखिर क्या है सिख छात्रों के लिए मापदंड ।

1- एक हिंदी अखबार में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, लड़कियों के लिए जरूरी है कि उनके बाल कटे हुए न हों। 

2- लड़कियों का सूट पहनना जरूरी है, चुन्नी ओढ़ना भी जरूरी है। अगर कोई छात्रा स्र्कर्ट या केप्री पहनती है तो उसका सर्टिफिकेट नहीं बनाया जाएगा।


3- किसी भी छात्रा के नाम के आगे कौर लगा होना अनिवार्य है । इतना ही नहीं सार्टिफिकेट बनवाने के लिए आने वाली छात्राओं को गुरमत का ज्ञान होना चाहिए। 

4- वहीं लड़कों के लिए पगड़ी अनिवार्य है। इतना ही नहीं दाढ़ी भी कटी हुई नहीं होनी चाहिए। 

5- छात्रों को सिख धर्म की पूरी जानकारी होनी चाहिए और नाम के आगे सिंह लगा होना चाहिए

बता दें कि अगर एक बार सर्टिफिकेट बनवाने के बाद किसी भी छात्र या छात्रा ने नियमों का उल्लंघन किया तो उसका सर्टिफिकेट रद्द कर दिया जाता है। इतना ही नहीं उसका दाखिला भी रद्द कर दिया जाता है। 

Todays Beets: