Sunday, September 23, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं

अंग्वाल संवाददाता
विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं

नई दिल्ली। दुनिया के शीर्ष उच्च शिक्षा संगठनों की श्रेणी में भारतीय विश्वविद्यालयों का प्रदर्शन सुधरने के बजाय और बिगड़ गया है। टाइम्स हायर एजेकुशन वर्ल्ड यूनिवर्सिटी की 2018 लिस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, विश्व के 250 शीर्ष संस्थानों में एक भी भारतीय संस्थान नहीं है। मंगलवार को आई रिपोर्ट में विश्व के एक हजार विश्वविद्यालयों की गुणवत्ता के आकलन किया गया। 

यह भी पढ़े-  शिक्षकों के लिए सरकार ने लिया बड़ा फैसला, प्रशिक्षण के लिए पंजीकरण कराना है जरूरी


भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों में सबसे बेहतर प्रदर्शन वाले इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस 201-250 की श्रेणी से नीचे गिर गया है। आईआईटी दिल्ली, कानपुर और मद्रास, खड्गपुर, रूड़की भी 401-500 की रैंकिंग पर लुढ़ककर 501 से 600 के दायरे में चाला गया है। आईआईटी बांबे की रैंकिंग भी 351-400 के बीच है। बीएचयू तो 601 से 800 के दायरे में है।  शोध आय और गुणवत्ता के पैमाने पर भारतीय संस्थानों में सुधार पाया गया है। 

यह भी पढ़े- योगी सरकार का फैसला, सरकारी नौकरी के लिए नहीं देना और इंटरव्यूवहीं बैटी ने कहा कि भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों की शोध आय एवं गुणवता सुधार का असर आने वाले वर्षों में दिख सकता है। उन्होंने भारत के 20 विश्वस्तरीय संस्थान तैयार करने की योजना का भी उल्लेख किया।  

Todays Beets: