Saturday, May 26, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं

अंग्वाल संवाददाता
विश्व के सबसे बेहतर शीर्ष 250 विश्वविद्यालयों में भारत से एक भी नहीं

नई दिल्ली। दुनिया के शीर्ष उच्च शिक्षा संगठनों की श्रेणी में भारतीय विश्वविद्यालयों का प्रदर्शन सुधरने के बजाय और बिगड़ गया है। टाइम्स हायर एजेकुशन वर्ल्ड यूनिवर्सिटी की 2018 लिस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, विश्व के 250 शीर्ष संस्थानों में एक भी भारतीय संस्थान नहीं है। मंगलवार को आई रिपोर्ट में विश्व के एक हजार विश्वविद्यालयों की गुणवत्ता के आकलन किया गया। 

यह भी पढ़े-  शिक्षकों के लिए सरकार ने लिया बड़ा फैसला, प्रशिक्षण के लिए पंजीकरण कराना है जरूरी


भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों में सबसे बेहतर प्रदर्शन वाले इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस 201-250 की श्रेणी से नीचे गिर गया है। आईआईटी दिल्ली, कानपुर और मद्रास, खड्गपुर, रूड़की भी 401-500 की रैंकिंग पर लुढ़ककर 501 से 600 के दायरे में चाला गया है। आईआईटी बांबे की रैंकिंग भी 351-400 के बीच है। बीएचयू तो 601 से 800 के दायरे में है।  शोध आय और गुणवत्ता के पैमाने पर भारतीय संस्थानों में सुधार पाया गया है। 

यह भी पढ़े- योगी सरकार का फैसला, सरकारी नौकरी के लिए नहीं देना और इंटरव्यूवहीं बैटी ने कहा कि भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों की शोध आय एवं गुणवता सुधार का असर आने वाले वर्षों में दिख सकता है। उन्होंने भारत के 20 विश्वस्तरीय संस्थान तैयार करने की योजना का भी उल्लेख किया।  

Todays Beets: