Friday, November 16, 2018

भगवान भोलेनाथ को कर सकते हैं महज 5 मिनट की पूजा से खुश, जानें हर मिनट अराधना का विधान

अंग्वाल संवाददाता
भगवान भोलेनाथ को कर सकते हैं महज 5 मिनट की पूजा से खुश, जानें हर मिनट अराधना का विधान

 छोटी सी उपासना से भी प्रसन्न होने वाले भगवान शंकर को यूं ही भोले नाथ नहीं कहा जाता। सही में भोले बाबा छोटी की भक्ति से ही अपने भक्तों के कष्ट हर लेते हैं। कहा जाता है कि मात्र इनकी अराधना करने से ही भक्त को सभी देवों की कृपा मिल जाती है, तभी तो इन्हें देवों के देव महादेव कहा जाता है। ये महादेव ही हैं जो भक्तों से सबसे आसानी से प्रसन्न हो जाते हैं। अगर आप देवाधिपति देव नीलकंठ से मनमाफिक मनोकामना कर रहे हैं तो उनकी अराधना के इन छोटे-छोटे तरीकों को अपनाकर आप उन्हें प्रसन्न कर सकते हैं। विद्वानों का कहना है कि इनकी अराधना भले ही थोड़ी देर की हो लेकिन इस दौरान पूजा पूरे विधि विधान से होनी चाहिए। अगर कोई भक्त ऐसा करता है तो उसे उनका मनमाफिक फल जल्द मिल जाएगा। 

तो चलिए अब बात करते हैं उन छोटे-छोटे उपायों के बारे में जिसकी मदद से आप भोलेनाथ को प्रसन्न कर सकते हैं। महादेव की पूजा के लिए सोमवार का दिन को अच्छा रहता ही है लेकिन अन्य दिन भी आप उनकी अराधना कर सकते हैं। चलिए बात सोमवार की ही करते हैं। सप्ताह के पहले दिन मात्र 5 मिनट की अराधना से भी आप भोलेनाथ को प्रसन्न करने में सफलता पा सकते हैं। 

आइये जानिए की कैसे आप अराधना शुरू करने से लेकर अगले 5 मिनट की पूजा से भी महादेव के कृपापात्र बन सकते हैं। तो जानिए हर मिनट की विधिवत क्रिया....

पहला मिनट

देवाधिपति देव महादेव की अराधना शुरू करने के पहले मिनट में सबसे पहले भगवान शंकर को षाष्टांग प्रणाम करें, महिलाओं को चाहिए कि वह हाथ जोड़कर ही प्रणाम करें। 

दूसरा मिनट

इसके बाद शिवलिंग के आगे धूप जलाएं और 9 चक्कर लगाते हुए ऊँ नम: शिवायं का उच्चारण करते रहें। ऐसा करने से भगवान महादेव आपके चारों ओर एक सुरक्षाचक्र बना देंगे जो आपको हर कष्ट से मुक्त करेगा। 


तीसरा मिनट

तीसरे मिनट में शिवलिंग पर एक-एक करके 9 बेल पत्र चढ़ाएं, ध्यान रहे कोई भी बेल पत्र कटा-फटा न हो। इसके साथ ही आप इस दौरान बेल का फल भी भगवान भोलेनाथ को अर्पित करें। 

चौथा मिनट

इसके बाद शिवलिंग पर जल चढ़ाएं, इस दौरान ध्यान रखें कि जल की धारा लगातार गिरनी चाहिए। ऐसा करके आप अपने हर रिश्ते में मजबूती पाएंगे। 

पांचवां मिनट 

एक थाली में कपूर जलाएँ और शिव की आरती करें । आरती के बाद अपने सामर्थ अनुसार दक्षिणा रखें। ऐसा करने से जातक को नौकरी , धन संपदा से जुड़ी समस्याओं से मुक्ति मिलेगी।  

Todays Beets: