Monday, October 22, 2018

शनि की टेढ़ी नजर आपके स्वास्थ्य पर करेगी बड़ा प्रहार, जानें हड्डियों से संबंधित बीमारियों को दूर रखने के कुछ उपाय

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शनि की टेढ़ी नजर आपके स्वास्थ्य पर करेगी बड़ा प्रहार, जानें हड्डियों से संबंधित बीमारियों को दूर रखने के कुछ उपाय

नई दिल्ली । अमूमन शनि को एक क्रूर ग्रह माना जाता है, लेकिन  शनि जब देने पर आता है तो वह लोगों की झोली इतनी भर देते हैं कि लोगों से संभाला नहीं जाता। हालांकि अगर शनि की टेढ़ी नजर किसी जातक पर पड़ जाए तो उसे अर्श से फर्श पर लाने में भी समय नहीं लगाता। इस प्रकार जानकार कहते हैं कि शनि की टेढ़ी नजर लोगों के स्वास्थ्य पर भी प्रहार करती है। ऐसे जातकों को हड्डियों से संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ता है। मसलन कुछ लोगों को हड्डियों में दर्द , सर्वाइकल , हड्डियां चटकना समेत इस तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ता है, ऐसे जातकों में इन परेशानियों का कारण शनि भी होता है। ऐसा कहा जाता है कि जब किसी जातक के ग्रहों की चाल उसके विपरित हो जाए तो उसे कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है, लेकिन स्वास्थ्य संबंधियों परेशियों से बचने के लिए शनि को उग्रता को शांत करने की कवायद करनी चाहिए। 

तो चलिए हम बताते हैं कि आखिर कैसे शनि की टेढ़ी नजर से बचा जा सकता है। आखिर कैसे हम छोटे छोटे उपाय करके निरोगी काया को पा सकते हैं। कैसे हम हड्डियों से संबंधित परेशानियों को दूर करने के लिए कारगर उपाय कर सकते हैं। जानकारों का कहना है कि सेहत की समस्या है तो आपको शनि को शांत करने के लिए कुछ कारगर उपाय करने होंगे, जिससे आपको मिलेंगा सेहतमंद जीवन।

-शनि यंत्र की स्थापना व पूजन करें। इसके बाद प्रतिदिन इस यंत्र की विधि-विधान पूर्वक पूजा करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं।  प्रतिदिन यंत्र के सामने सरसों के तेल का दीप जलाएं। नीला या काला पुष्प चढ़ाएं ऐसा करने से लाभ होगा।

 -असल में ऐसे लोगों को जिनपर शनि की टेढ़ी नजर पड़ी हो, उन लोगों को जल में नीम के पत्ते डालकर स्नान करना चाहिए। 

-सूर्यास्त के बाद हनुमानजी का पूजन करें। पूजन में सिन्दूर, काली तिल्ली का तेल, इस तेल का दीपक एवं नीले रंग के फूल का प्रयोग करें।

-शनिवार के दिन आप अपने हाथ की लंबाई का 19 गुणा लंबा एक काला धागा लें उसे एक माला के रूप में बनाकर अपने गले में धारण करें। यह अच्छा परिणाम देगा और भगवान शनि को आप पर कृपावान बनाएगा।

-हर शनिवार बंदरों को गुड़ और काले चने खिलाएं, इसके अलावा केले या मीठी लाई भी खिला सकते हैं। यह भी शनिदेव के अशुभ प्रभाव को समाप्त करने में काफी मददगार होता है।


-सवा-सवा किलो काले चने अलग-अलग तीन बर्तनों में भिगो दें। इसके बाद नहाकर, साफ वस्त्र पहनकर शनिदेव का पूजन करें और चनों को सरसो के तेल में छौंक कर इनका भोग शनिदेव को लगायें। इसके बाद पहला सवा किलो चना भैंसे को खिला दें। दूसरा सवा किलो चना कुष्ट रोगियों में बांट दें और तीसरा सवा किलो चना अपने ऊपर से उतार कर किसी सुनसान स्थान पर रख आएं।

-ऐसे जातकों को काली दाल के साथ तिल के दानों का दान करना चाहिए।  

-ऐसे लोग अपने हाथ में लोहे का छल्ला धारण कर सकते हैं। 

-ऐसे जातकों को शनिवार के दिन शाम के समय बरगद और पीपल के पेड़ के नीचे सरसो के तेल का दीपक लगायें और दूध एवं धूप आदि अर्पित करना चाहिए। 

-चोकर युक्त आटे की 2 रोटी लेकर एक पर तेल और दूसरी पर शुद्ध घी लगाएं। तेल वाली रोटी पर थोड़ा मिष्ठान रखकर काली गाय को खिला दें। इसके बाद दूसरी रोटी भी खिला दें और शनिदेव का स्मरण करें।

-शनिवार के दिन खुद भी काले चने और काली दाल का सेवन कर सकते हैं। 

इन उपायों को करने वाले जातक पर शनि कभी अपनी टेढ़ी नजर नहीं डालते। ऐसा करने वालों को वह स्वस्थ शरीर प्रदान करते हैं। 

Todays Beets: