Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

हरिद्वार ग्रामीण सीट -यहां मतदाताओं ने जताया है कांग्रेस पर विश्वास...क्या इस बार भी हाथ का साथ देंगे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हरिद्वार ग्रामीण सीट -यहां मतदाताओं ने जताया है कांग्रेस पर विश्वास...क्या इस बार भी हाथ का साथ देंगे

देहरादून । उत्तराखण्ड में विधानसभा चुनावों के लिए मतदान का दिन नजदीक आता जा रहा है। राज्य में प्रत्याशियों के नामांकन की प्रक्रिया 20 से 27 जनवरी तक चली। नामांकन खत्म होने के बाद प्रत्याशियों संग पार्टी के बड़े नेताओं ने भी प्रचार तेज कर दिया है। राज्य में भाजपा, कांग्रेस जैसी राष्ट्रीय पार्टियां तो दमखम दिखा ही रही हैं लेकिन इस बार क्षेत्रिय पार्टियां और निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी अपना दम दिखाना शुरू कर दिया है।  पिछले विधानसभा (2012) चुनावों की बात करें तो यही हाल पहले भी था। चलिए इस बीच नजर डालते हैं उत्तराखंड की हरिद्वार ग्रामीण विधानसभा सीट पर। देखते हैं पिछली बार इस सीट पर मतदाताओं का 

रुझान किस ओर रहा था।

हरिद्वार ग्रामीण सीट का रुख करें तो पिछली बार यहां से कांग्रेस के यतिश्वरा नंद ने 25159 (32.41%) वोट पाकर बाजी मारी। लेकिन इसी सीट पर नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के इरशाद अली ने 21284 (27.42%) वोट पाकर कांग्रेस के यतिश्वरानंद को कड़ी टक्कर दी थी । यतिश्वरानंद ने इनको 3935 (5.07%)  वोटों के अंतर से हराया था। तीसरे नंबर पर रहे भाजपा के उम्मीदवार शेषराज सिंह ने 19158 (24.68%) पाए तो उत्तराखंड क्रांतिदल के श्रीकांत वर्मा 6458 (8.32%) वोट पाकर चौथे नंबर पर थे। 18 उम्मीदवारों वाली इस सीट पर 96,683 मतदाता थे। इनमें से 77607 (80.27%) मतदाताओं ने वोट किया।


क्षेत्रिय पार्टियों ने दिखाया था दम

यूं तो पिछली बार विधानसभा चुनावों में कई निर्दलीय उम्मीदवार खड़े हुए थे, जिन्होंने बड़े नेताओं का चुनावी गणित बिगाड़ा था। लेकिन हरिद्वार ग्रामीण सीट पर पिछली बार कोई भी निर्दलीय उम्मीदवार टक्कर देता नजर नहीं आया। हालांकि क्षेत्रिय पार्टी को भाजपा से ज्यादा तरजीह दी गई। इस सीट से छह निर्दलीय उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमाने उतरे थे लेकिन कुछ खास नहीं कर पाए। वोट बैंक की बात की जाए तो सभी निर्दलीय उम्मीदवारों को महज डेढ़ फीसदी (1226) वोट मिले थे । इससे साफ हैं कि हरिद्वार ग्रामीण सीट के मतदाताओं का रुझान राष्ट्रीय और क्षेत्रिय पार्टी की तरफ ज्यादा है।

Todays Beets: