Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

कांग्रेस के वयोवृद्ध नेता एनडी तिवारी भी हुए भाजपाई, बेटे को करना चाहते हैं राजनीति में स्थापित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कांग्रेस के वयोवृद्ध नेता एनडी तिवारी भी हुए भाजपाई, बेटे को करना चाहते हैं राजनीति में स्थापित

देहरादून। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नारायण दत्त तिवारी भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं। अपने जीवन के कई बसंत देख चुके नारायण दत्त तिवारी अपने बेटे रोहित को राजनीति में स्थापित करना चाहते हैं। कांग्रेस हाईकमान से टिकट न मिलने के बाद उन्होंने उत्तरप्रदेश में समाजवादी पार्टी से भी संपर्क साधा था, वहां से भी उन्हें मायूसी ही मिली। इसके बाद बुधवार सुबह वह भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात करने के बाद भाजपा में शामिल हो गए। 

बीजेपी से टिकट मिलने की उम्मीद

गौरतलब है कि नारयण दत्त तिवारी अपने बेटे रोहित के लिए जहां से टिकट चाहते हैं वहां से अभी भाजपा ने अपने उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। भारतीय जनता पार्टी के द्वारा अभी देहरादून की चकराता, विकासनगर, धर्मपुर और नैनीताल की हल्द्वानी, भीमताल और रामनगर सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की गई है। दूसरी पार्टी से भाजपा में शामिल हुए 11 नेताओं में से 9 नेताओं को पार्टी ने टिकट मिल चुका है। जबकि 2 सीट अभी भी खाली है। ऐसे में तिवारी के अपने बेटे के साथ भाजपा में शामिल होकर राजनीतिक भविष्य की तलाश कर रहे हैं। 


पुराने कांग्रेसी नेता हैं

ऐसा माना जा रहा है कि आमतौर पर उम्र के जिस पड़ाव में उन्हें राजनीति से संन्यास लेना चाहिए वहां वे राजनीति की नई पारी की शुरुआत करने जा रहे हैं। आपको बता दें कि नारायण दत्त तिवारी 3 बार उत्तरप्रदेश और 1 बार उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। 2007 में वह आंध्र प्रदेश के राज्यपाल बनाए गए थे। इसके अलावा उन्होंने 80 के दशक में योजना आयोग के उपाध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री सहित कई महत्वपूर्ण पदों पर जिम्मेदारी निभाई है। वह कांग्रेस के पुराने सिपाही और मौजूदा समय में सर्वाधिक राजनीतिक अनुभव वाले व्यक्तियों में से एक हैं। अगर तिवारी का बीजेपी में शामिल होने पर मुहर लग जाती है तो ऐसा होगा कि प्रदेश के सभी पूर्व मुख्यमंत्री भारतीय जनता पार्टी के पाले में खड़े दिखाई पड़ेंगे।  

Todays Beets: