Wednesday, January 24, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

नौकरी दिलाता है बायो-डाटा, तैयार करते समय इन बातों का रखें ध्यान

अंग्वाल संवाददाता
नौकरी दिलाता है बायो-डाटा, तैयार करते समय इन बातों का रखें ध्यान

किसी भी नौकरी को पाने के लिए आपको पहले अपना बायो-डाटा देना पड़ता है।किसी भी संस्था में आपकी छवि बनाने में आपका बायो-डाटा आपकी मदद करता है। सबसे अहम बात है कि बायो-डाटा को तैयार कैसे किया जाएं। सबसे पहले बायो-डाटा में आपका एकदम आसान शब्दों में लिखा होना चाहिए। यदि आपके पता जटिल अक्षरों में लिखा हुआ होता है तो कई बार आप बेहतरीन नौकरी की सूचना से चूक जाते हैं। अपने बायो-डाटा में हमेशा वह नंबर दें जो जिसका इस्तेमाल आप हमेशा करते हो। साथ ही अपना ईमेल आईडी देते हुए भी ये ध्यान रखें की अपना ईमेल आईडी की पूरी और सही जानकारी दे इससे भी आपका इंप्रेशन बढ़ता है।

किसी भी संस्था के लिए आपकी पहली छवि बायो-डाटा से बनती है।अक्सर हम इंटरव्यू की तैयारी में बायो-डाटा पर ध्यान देना भूल जाते हैं। अपने बायो-डाटा में बिना मतलब के लंबे वाक्य या पैराग्राफ जोड़ने से बचे। इससे बायो-डाटा लंबा होने पर पढ़ने वाले को बोझिल लग सकता है।

 

 

बायो-डाटा तैयार करते समय रखें इन निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें।


 

 

न बन जाए नेगेटिव छवि अगर बायो-डाटा में कई जगह स्पेलिंग या ग्रामर में गलतियां की हैं तो यह संस्था के सामने आपकी नेगेटिव छवि बना सकता है।

स्किल्स पर गौर करेंस्किल्स प्वाइंट वाइज बताएं । कोशिश करें कि एक जैसी स्किल्स एक प्वाइंट में रखें। उन्हीं स्किल्स को मैंशन करें, जो आपकी जॉब में आपकी मदद कर सकती है।

न हो नेगेटिव अप्रोचपिछली नौकरी छोड़ने के कारणों का जिक्र बायो-डाटा में न आए। इस बात का पूरा ध्यान रखें। बायो-डाटा में आपकी पर्सनेलिटी झलकती है। इसमें नेगेटिव अप्रोच नहीं होनी चाहिए। 

Todays Beets: