Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

बैंकिंग सेक्टर में करियर बनाने वालों के लिए एक झटका देने वाली खबर

अंग्वाल संवाददाता
बैंकिंग सेक्टर में करियर बनाने वालों के लिए एक झटका देने वाली खबर

नई दिल्ली। अगर आप युवा हैं और बैंकिंग सेक्टर में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो आपको यह खबर झटका दे सकती है। दरअसल, एक रिपोर्ट के मुताबिक आने वाले 5 साल में बैंकिंग सेक्टर में 30 फीसदी नौकरियों के घटने की आंशका जताई जा रही है। ऐसा कहना किसी और का नहीं बल्कि सिटी बैंक के पूर्व सीईओ विक्रम पंडित का है। उन्होंने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान कहा कि उनका मानना है कि जिस तरह से बैंकों में रोबोट और ऑटोमेटिक मशीनरी को बढ़ावा दिया जा रहा है, उसे देखकर यह कहा जा सकता है कि अगले 5 सालों में बैंकिंग सेक्टर में नौकरी की संख्या में कमी आ सकती है। ऐसा नहीं है कि बैंकिंग क्षेत्र में नौकरियां कम होने को लेकर किसी ने पहली बार यह आंशका जताई हो। 

यह भी पढ़े-  12वीं पास के लिए रेलवे में नौकरी का मौका, जल्द करें आवेदन 


आपको बता दें कि इससे पहले बीसीजी ग्रुप के सौरभ त्रिपाठी ने कहा था कि छोटे पद की नौकरियां खत्म हो सकती हैं। उनके अनुसार, मशीनों और तकनीक की वजह से डाटा एंट्री वाले पद तक की नौकरियां खत्म हो सकती हैं। उन्होंने अपने बयान में कहा था कि जो भी चीजें आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स और नेचुरल लेंग्वेज से होती हैं, उन सभी को आसान बनाने की कोशिश की जा रही है।  इससे नतीजे भी काफी अच्छे देखने को मिलते हैं। अब बैंकों में डाटा एंट्री, रकम जमा करना, रकम निकालना, फॉर्म भरने जैसे काम ऑनलाइन या मशीनों द्वारा काम काम किए जाने पर जोर दिया जा रहा है। इसका सीधा असर बैंक कर्मचारियों की संख्या पर पड़ेगा। 

Todays Beets: