Friday, August 17, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

बैंकिंग सेक्टर में करियर बनाने वालों के लिए एक झटका देने वाली खबर

अंग्वाल संवाददाता
बैंकिंग सेक्टर में करियर बनाने वालों के लिए एक झटका देने वाली खबर

नई दिल्ली। अगर आप युवा हैं और बैंकिंग सेक्टर में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो आपको यह खबर झटका दे सकती है। दरअसल, एक रिपोर्ट के मुताबिक आने वाले 5 साल में बैंकिंग सेक्टर में 30 फीसदी नौकरियों के घटने की आंशका जताई जा रही है। ऐसा कहना किसी और का नहीं बल्कि सिटी बैंक के पूर्व सीईओ विक्रम पंडित का है। उन्होंने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान कहा कि उनका मानना है कि जिस तरह से बैंकों में रोबोट और ऑटोमेटिक मशीनरी को बढ़ावा दिया जा रहा है, उसे देखकर यह कहा जा सकता है कि अगले 5 सालों में बैंकिंग सेक्टर में नौकरी की संख्या में कमी आ सकती है। ऐसा नहीं है कि बैंकिंग क्षेत्र में नौकरियां कम होने को लेकर किसी ने पहली बार यह आंशका जताई हो। 

यह भी पढ़े-  12वीं पास के लिए रेलवे में नौकरी का मौका, जल्द करें आवेदन 


आपको बता दें कि इससे पहले बीसीजी ग्रुप के सौरभ त्रिपाठी ने कहा था कि छोटे पद की नौकरियां खत्म हो सकती हैं। उनके अनुसार, मशीनों और तकनीक की वजह से डाटा एंट्री वाले पद तक की नौकरियां खत्म हो सकती हैं। उन्होंने अपने बयान में कहा था कि जो भी चीजें आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स और नेचुरल लेंग्वेज से होती हैं, उन सभी को आसान बनाने की कोशिश की जा रही है।  इससे नतीजे भी काफी अच्छे देखने को मिलते हैं। अब बैंकों में डाटा एंट्री, रकम जमा करना, रकम निकालना, फॉर्म भरने जैसे काम ऑनलाइन या मशीनों द्वारा काम काम किए जाने पर जोर दिया जा रहा है। इसका सीधा असर बैंक कर्मचारियों की संख्या पर पड़ेगा। 

Todays Beets: