Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

आईटी सेक्टर के लिए अच्छी खबर,इंफोसिस इस साल देगा 20,000 लोगो को नौकरी

मेघा वर्मा
आईटी सेक्टर के लिए अच्छी खबर,इंफोसिस इस साल देगा 20,000 लोगो को नौकरी

नई दिल्ली। देश में आईटी सेक्टर में छटनी की खबर से मचे हंगामे के बीच कर्मचारियों को लिए एक राहत भरी खबर आ रही है। शुक्रवार को आईटी सेक्टर की बड़ी कंपनियों में से एक इंफोसिस कंपनी ने इस साल 20,000 नई भर्ती करने के लिए कहा है। केवल 400 कर्मचारियों को ही उनके प्रर्दशन के आधार पर नौकरी छोड़ने के लिए कहा गया है। कंपनी के मुताबिक आईटी कंपनियो ने छंटनी की बात को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया है। इंफोसिस के सीओओ यूबी प्रवीण झा राव ने कहा प्रोद्यगिकी आधारित बदलाव इंफोसिस जैसी कंपनियों के लिए नए अवसर प्रदान करते है। राव ने कंपनी के को-चेयरमैन रवि वेंकटेशन के साथ शुक्रवार को सूचना प्रोद्यगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद से मुलाकात की औक यह बैठक लगभग आधे तक चली । इसके बाद राव ने कहा कि कर्मचारियों के छंटनी कि को मीडिया ने बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया है। कर्मचारी के प्रर्दशन ने आधार प यह हर साल किया जाता है। छंटनी वाले कर्मीयों की संख्या केवल 300-400 है। सह कोई नई बात नहीं है। कंपनी और नए रोटगार की तैयारियां कर रही हैं। आपको याद दिला दें कि इंफोसिस के सह-संस्थापक एनआर नायारणमूर्ति ने कहा था कि अगर वरिष्ठ अधिकारी अपने वेतन में कटौती को तैयार हो जाएं तो युवाओं की नौकरियां बचाई जा सकती है। वेतन कटौती से होने वाली बचत को कर्मचारियों की ट्रेनिंग में लगाई दानी चाहिए। टाटा और इंफोसिस जैसी आईटी कंपनियां बढ़ी संख्या में नियुक्ति जारी रखेंगी।


Todays Beets: